श्रीनगर. जम्मू कश्मीर में लद्दाख के खारदुंग ला क्षेत्र में एक ट्रक के शुक्रवार को हिमस्खलन की चपेट में आने से उसमें सवार पांच लोगों की मौत हो गई जबकि पांच अन्य लोग लापता हैं. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. सीमा सड़क संगठन (BRO) के एक अधिकारी ने बताया कि लद्दाख क्षेत्र के खारदुंग ला दर्रे के इलाके में 10 लोगों को लेकर जा रहा ट्रक शुक्रवार सुबह सात बजे हिमस्खलन की चपेट में आ गया. उन्होंने बताया कि बीआरओ ने बर्फ में लोगों के फंसे होने की आशंका के मद्देनजर अपने कर्मियों एवं मशीनरी को राहत कार्य में लगा दिया है.

अधिकारी ने बताया कि पुलिस, सेना एवं राज्य आपदा मोचन बल कर्मी भी बचाव के लिए घटनास्थल पर पहुंच गए हैं. उन्होंने कहा, ‘‘अब तक, हिमस्खलन स्थल से पांच लोगों के शव बरामद हुए हैं और लापता लोगों की तलाश जारी है.’’ मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मौसम विभाग द्वारा प्रतिकूल मौसम का परामर्श जारी किए जाने के बाद प्रशासन ने गुरुवार को हिमस्खलन को लेकर हाई अलर्ट जारी किया था. अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, लेह के डिप्टी कमिश्नर अवनी लवासा ने बताया कि शुक्रवार की यह घटना उस समय हुई जब इलाके के कुछ लोग बर्फ की खुदाई कर रहे थे. उन्होंने बताया कि बर्फ की खुदाई के कारण ही संभवतः बर्फीला तूफान आया और ट्रक उसकी चपेट में आ गया. उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्टया माना जा रहा है कि बर्फ की खुदाई के कारण ही यह तूफान आया, जिसमें दबकर 5 लोगों की मौत हो गई.

इस बीच, जम्मू-कश्मीर के कई इलाकों में तापमान शून्य से नीचे चला गया है. राज्य की राजधानी श्रीनगर समेत घाटी में कई स्थानों पर तापमान शून्य से 10 डिग्री सेल्सियस नीचे है. मौसम विभाग ने इसके मद्देनजर ही शुक्रवार को तापमान के और नीचे जाने का अलर्ट जारी किया था. शुक्रवार को बर्फीले तूफान में हुए हादसे के बाद एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि लद्दाख में कई स्थानों पर तापमान जीरो से 12 डिग्री सेल्सियस तक नीचे चला गया है. करगिल इलाके में तो टेम्प्रेचर शून्य से 20.2 डिग्री तक नीचे है. आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में अभी ‘चिल्ले-कलां’ यानी कड़ाके की ठंड का मौसम जारी है. मौसम विभाग के अनुसार चिल्ले-कलां करीब 40 दिनों तक रहता है. इस बार यह आगामी 31 जनवरी तक रहेगा. इस अवधि में घाटी के कई इलाकों का तापमान शून्य से काफी नीचे चला जाता है.

(इनपुट – एजेंसियां)