श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में महबूबा सरकार में शामिल बीजेपी के सभी मंत्रियों से इस्तीफा ले लिया गया है. बताया जा रहा है कि नए सिरे से विभागों के बंटवारे को लेकर ये फैसला लिया गया है. कैबिनेट फेरबदल में कुछ नए मंत्री भी बनाए जाएंगे. कठुआ विवाद में दो मंत्रियों के इस्तीफे से कैबिनेट में दो मंत्रिपद खाली हुए थे.Also Read - J&K: आतंकवादी गतिविधियों का समर्थन करना पड़ा भारी, गिलानी के पोते को सरकारी नौकरी से किया गया बर्खास्त

Also Read - Arms recovered in Kashmir: उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले से गोला-बारूद का जखीरा बरामद

बीजेपी ने जम्मू कश्मीर में मंगलवार को अपने सभी नौ मंत्रियों से इस्तीफा सौंपने को कहा ताकि पार्टी दो साल पुरानी महबूबा मुफ्ती मंत्रिमंडल में नए चेहरों को शामिल कर सके. पार्टी नेताओं ने आज यहां यह जानकारी दी. बीजेपी अपने दो मंत्रियों लाल सिंह और चंद्र प्रकाश गंगा के कठुआ में आठ साल की लड़की से बलात्कार और उसकी हत्या के आरोपियों के समर्थन में आयोजित रैली में हिस्सा लेने के बाद से बेहद दबाव में है. इस घटना को लेकर लोगों में गुस्से और विपक्ष के लगातार हमलों के बाद मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया था. Also Read - Weapon-dropping case: हथियार उठाने आए आरोपी इरफान भट ने माना वह लश्कर से जुड़ा है

कठुआ गैंगरेप: आरोपियों का पहला ट्रायल, खुद को बताया बेकसूर, नार्को टेस्ट की मांग

कठुआ गैंगरेप: आरोपियों का पहला ट्रायल, खुद को बताया बेकसूर, नार्को टेस्ट की मांग

कैबिनेट फेरबदल की तैयारी

बीजेपी नेताओं ने कहा कि पार्टी मंत्रिमंडल में नए चेहरों को लाना चाहती है और राज्य की जनता के लिये काम करना चाहती है. राज्य में मुख्यमंत्री समेत अधिकतम 25 मंत्री हो सकते हैं. इसमें से 14 विभाग पीडीपी के पास हैं और बाकी भाजपा के पास हैं.

राज्य सरकार के शीर्ष सूत्रों के अनुसार मंत्रिमंडल में फेरबदल 20 अप्रैल को होने की संभावना है. सूत्रों ने बताया कि यह फैसला बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं अविनाश खन्ना और पार्टी विधायकों के बीच गहन चर्चा के बाद किया गया है.

कठुआ कांड की गूंज

बता दें कि जम्मू कश्मीर में इन दिनों कठुआ कांड की गूंज है. 8 साल की बच्ची से रेप के मामले में यहां राजनीति में उबाल है और विपक्ष बीजेपी-पीडीपी सरकार पर हमलावर है. बीजेपी के दो मंत्रियों को आरोपियों के समर्थन में निकाली गई रैली में शामिल होने पर इस्तीफा देना पड़ गया था. कठुआ गैंगरेप मामले की पूरे देश में गूंज सुनाई दी और मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंचा. खुद आरोपी ही मामले की जांच सीबीआई से कराने और अपना नार्को टेस्ट कराने की मांग कर रहे हैं.