जम्मू: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की जम्मू एवं कश्मीर इकाई के अध्यक्ष रविंदर रैना ने राज्य के नए राज्यपाल सत्यपाल मलिक के बारे में कहा कि वह ‘हमारा बंदा’ है. गुरुवार को वायरल हुए एक वीडियो क्लिप में रैना अपने आसपास के लोगों से कहते दिखाई दे रहे हैं, “अब जो गवर्नर आया है, वो हमारा बंदा है. रविंदर रैना विधायक भी हैं. पहली बार विधायक बने रैना ने इसी वीडियो में दावा किया है कि पूर्व राज्यपाल एनएन वोहरा को इसलिए हटा दिया गया क्योंकि वह अपने विचारों पर जोर देते थे और भाजपा नेताओं की नहीं सुनते थे. Also Read - सात महीने की हिरासत के बाद रिहा होंगे उमर अब्दुल्ला, जम्मू-कश्मीर सरकार ने जारी किए आदेश

अनुच्छेद 35A हटाए जाने की अफवाहों पर कश्मीर में कई जगह प्रदर्शन, बाजार बंद Also Read - फारूक अब्दुल्ला ने PM मोदी को लिखा पत्र, 4G इंटरनेट सेवाओं को बहाल करने की मांग

राज्यपाल ने दो दिन पहले ही कहा था- राज्‍य में बहुत कुछ अच्‍छा हुआ है
बता दें कि हाल ही में जम्‍मू कश्‍मीर के राज्‍यपाल सत्‍यपाल मलिक ने मंगलवार को कहा था कि राज्‍य में बहुत कुछ अच्‍छा हुआ है. उन्‍होंने क‍हा था कि वे लोगों से बातचीत कर उनकी समस्‍याएं सुलझाने को सर्वोच्‍च प्राथमिकता देंगे. मलिक ने कहा कि हमें पॉजिटिव नजरिया रखना चाहिए. राज्‍य में हाल के दिनों में कई बातें अच्‍छी हुई हैं. जम्‍मू कश्‍मीर की फुटबॉल टीम ने मोहन बगान को हराया और अमरनाथ यात्रा शांतिपूर्वक संपन्‍न हुई. उन्‍होंने कहा, ‘मैं खुले दिमाग के साथ आया हूं. मैं लोगों से बातचीत करूंगा और उनकी समस्‍याएं जानने की कोशिश करूंगा.’ Also Read - SC ने केंद्र और जम्मू कश्मीर प्रशासन से पूछा- क्या अगले हफ्ते उमर अब्दुल्ला रिहा हो रहे हैं..?

जम्‍मू कश्‍मीर के नए राज्‍यपाल ने कहा, पत्‍थरबाजी की घटनाएं पहले से कम हो गईं

पीएम फंड कैसे खर्च हुआ, देखेंगे
नए राज्‍यपाल ने कहा कि जम्‍मू कश्‍मीर में भ्रष्‍टाचार बड़ा मुद्दा है. वे देखेंगे कि प्रधानमंत्री द्वारा भेजे गए फंड को कैसे खर्च किया गया. उन्‍होंने बताया कि राज्‍य की विधानसभा निलंबित होने के चलते विधायक निधि पर भी रोक लगी हुई थी. उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात कर यह रोक हटवा दी है जिससे विधायक अपने क्षेत्रों में विकास कार्यों पर खर्च कर सकें. मलिक ने ये भी कहा था कि राज्‍य में पत्‍थरबाजी की घटनाएं कम हुई हैं. उन्‍होंने हालांकि कहा कि अभी वे इस बारे में ज्‍यादा नहीं बता सकते, लेकिन इतना तय है कि उनका सारा जोर आम लोगों की समस्‍याएं हल करने पर होगा.