जम्मू: जम्मू एवं कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास पाकिस्तान ने संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए गोलीबारी की, जिसमें एक भारतीय जवान शहीद हो गया. राजौरी जिल के नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तानी गोलीबारी में नायक राजीव थापा शहीद हो गए. बता दें कि कृष्णा घाटी सेक्टर में मंगलवार को भी नायक रवि रंजन सिंह शहीद हो गए थे.

 

भारतीय सेना ने बयान जारी करके कहा कि जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तानी सेना की पोस्ट को भारी नुकसान पहुंचा है, जिसके परिणामस्वरूप पाकिस्तानी सैनिकों की भी मौत हो गई. पाकिस्तान के कितने सैनिक मरे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. 34 वर्षीय थापा पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी जिले के रहने वाले थे. सेना के एक अधिकारी ने कहा कि थापा बहुत बहादुर थे. वह अत्यधिक प्रेरित और ईमानदार जवान थे. राष्ट्र हमेशा उनके द्वारा दिए गए सर्वोच्च बलिदान और कर्तव्य के प्रति समर्पण के लिए उसका ऋणी रहेगा. पाकिस्तान की तरफ से अकारण की जा रही गोलीबारी में यह दूसरी क्षति है, जो भारत को हुई है. कृष्णा घाटी सेक्टर में मंगलवार को भी नायक रवि रंजन सिंह शहीद हो गए थे.

शीर्ष सैन्य कमांडर ने जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर अग्रिम चौकियों का दौरा किया
सेना की उत्तरी कमान के कमांडर ने शुक्रवार को नियंत्रण रेखा पर पुंछ और अखनूर सेक्टरों का दौरा किया और घुसपैठ का मुकाबला करने के लिए सैन्य बलों द्वारा अपनाये गये कदमों पर संतोष व्यक्त किया. उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह का यह दौरा पिछले हफ्ते सीमावर्ती राजौरी और पुंछ जिलों में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान द्वारा करीब एक दर्जन संघर्षविराम उल्लंघन के आलोक में हुआ है. संघर्षविराम के इन उल्लंघनों में तीन सैनिक शहीद हो गये थे और एक नागरिक की जान चली गयी थी.

घुसपैठ का मुकाबला करने के लिए चौकसी बढ़ाने को कहा
एक रक्षा प्रवक्ता के अनुसार सिंह के साथ व्हाइट नाइट कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल परमजीत सिंह भी थे. अधिकारी ने कहा कि सैन्य कमांडर ने घुसपैठ का मुकाबला करने के लिए चौकसी बढ़ाने और अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी का उपयोग करने एवं अन्य कदम उठाने पर संतोष व्यक्त किया. उन्होंने दुश्मन के संघर्षविराम उल्लंघनों और अन्य कार्रवाइयों का मुंहतोड़ जवाब देने नियंत्रण रेखा पर आक्रामक रूख अपनाये जाने की भी सराहना की. उन्होंने कहा कि कमांडर को क्षेत्र में सामान्य स्थिति लाने के लिए की गयी पहल ‘मिशन रीच आउट’ के बारे में भी बताया गया. सिंह ने सेना, नागरिक प्रशासन और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के बीच तालमेल की प्रशंसा की तथा पुंछ, राजौरी एवं रियासी जिलों में स्थिति सामान्य बनाने के लिए उन्हें बधाई भी दी.