नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में एक दिन पहले सुरक्षाबलों के साथ हुई मुठभेड़ में मारे गए एक आतंकवादी का शव शनिवार को बरामद किया गया. पुलिस महानिदेशक एस.पी. वैद और सेना के एक प्रवक्ता ने शुक्रवार को थामुना गांव में हुई मुठभेड़ में तीन आतंकवादियों के मारे जाने की पुष्टि की थी. Also Read - गणतंत्र दिवस से पहले जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बढ़ी कामयाबी, 150 मीटर लंबी सुरंग का लगाया पता

दरअसल ये घटना तब हुई जब आतंकवादियों ने सेना के गश्ती दल पर ग्रेनेड फेंका था. जिसके बाद सेना ने मुंहतोड़ जवाब देते हुए एक आतंकी को ढेर कर दिया था. आतंकियों ने ग्रेनेड से उस समय हमला किया था जब सेना के जवान कचमा के जंगलों में सर्च ऑपरेशन कर रहे थे. Also Read - आखिर किस वजह से जम्मू-कश्मीर के कैदियों को आगरा जेल स्थानांतरित किया गया, जानें पूरी डिटेल्स

घटना के बारे में जानकारी देते हुए सेना के एक अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा बलों ने कुपवाड़ा में त्रेहगाम के जंगलों में आतंकवादियों के होने की सूचना मिलने के बाद तलाशी अभियान शुरू किया था. उन्होंने बताया कि दोनों पक्षों के बीच गोलीबारी में एक आतंकवादी मारा गया. मारे गए आतंकवादी के बारे में यह पता नहीं चला है कि वह किस संगठन से जुड़ा था. Also Read - केंद्र सरकार ने सिविल सर्विसेज का जम्मू-कश्मीर कैडर किया खत्म, अधिसूचना जारी कर AGMUT में किया विलय

कुछ दिन पहले ही जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में भी आईएस के 4 आतंकियों को सेना ने मार गिराया था. हालांकि इस एनकाउंटर में जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक जवान को अपनी शहादत देनी पड़ी थी और एक आम नागरिक की भी मौत हो गई थी.

ईद के बाद से केंद्र सरकार ने घाटी में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन के लिए सेना को छूट दे दी थी जिसके बाद कई एनकाउंटर हो चुके हैं. जम्मू-कश्मीर में भाजपा-पीडीपी की सरकार गिरने के बाद राज्यपाल शासन लगने से भी सेना को आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करने में किसी राजनीतिक दबाव का सामना नहीं करना पड़ रहा.

इस बीच शुक्रवार को भी सुरक्षाबलों और स्थानीय लोगों के बीच हुई झड़प व पथराव की घटना में एक स्थानीय नागरिक मारा गया था और आठ अन्य प्रदर्शनकारी घायल हो गए थे.