श्रीनगर: पीडीपी अध्यक्ष और जम्मू एवं कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) को तीन साल के कार्यकाल के लिए सोमवार को सर्वसम्मति से पीडीपी प्रमुख के तौर पर फिर से चुना गया. पीडीपी (PDP) के एक प्रवक्ता ने कहा कि उनके नाम का प्रस्ताव वरिष्ठ नेता जी.एन. एल. हंजुरा ने किया और खुर्शीद आलम की ओर से भी इस पर सहमति जताई गई. पीडीपी के वरिष्ठ नेता एआर वीरी पार्टी के चुनाव बोर्ड के अध्यक्ष हैं.Also Read - UP Elections 2022: महबूबा मुफ्ती का भाजपा पर कटाक्ष, बोलीं- यूपी में भगवा दल से छुटकारा 1947 से बड़ी आजादी होगी

प्रवक्ता ने कहा कि जम्मू में पार्टी के निर्वाचक मंडल ने सर्वसम्मति से मुफ्ती को पीडीपी का अध्यक्ष चुना. मुफ्ती 5 अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद से पीएसए के तहत हिरासत में लिए गए मुख्यधारा के नेताओं में शामिल रही हैं. Also Read - परिसीमन आयोग ने जम्मू के लिए 6 और कश्मीर के लिए 1 नई सीट का प्रस्ताव रखा, भड़के राजनीतिक दल; जानें किसने क्या कहा...

उनका फिर से चुनाव ऐसे समय पर हुआ है, जब उनकी पार्टी पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन (पीएजीडी) में शामिल हुई है, जो कि संवैधानिक परिवर्तनों के उलटफेर के खिलाफ एक गठबंधन है, जिसमें नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) जैसी मुख्यधारा की पार्टी भी शामिल है. पीएजीडी ने हाल ही में संपन्न जिला विकास परिषद (डीडीसी) चुनावों में सबसे अधिक सीटें हासिल की हैं. Also Read - महबूबा मुफ्ती ने दिल्ली के जंतर मंतर पर दिया धरना, बोलीं- कश्मीर दर्द में है