नई दिल्ली/श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर सरकार ने बुधवार को एक बार फिर दोहराया कि शहरी लोकल बॉडी और पंचायत चुनाव को सफल बनाने के लिए हर संभव कोशिश की जाएगी. वह पहले ही कह चुकी है कि वह चुने हुए सदस्यों की सुरक्षा को लेकर वह प्रतिबद्ध है. इसके साथ ही अब उसने कहा है कि चुनाव कराने वाले सरकारी कर्मचारियों को एक महीने की अतिरिक्त तन्ख्वाह दी जाएगी. चुनाव को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने के लिए सुरक्षाकर्मियों की 400 कंपनी भी लगाएगी. Also Read - मार्केट इंटरवेंशन स्कीम के विस्तार को मंजूरी, मोदी सरकार के फैसले से जम्मू-कश्मीर के सेब उत्पादकों की बढ़ेगी कमाई

सरकार ने उन सभी लोगों के लिए छूट की घोषणा की है जो चुनाव कराने में मदद करेंगे. मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रमण्यम ने कहा है कि कश्मीर के कुछ हिस्से में आंतकवाद सच्चाई है. लेकिन चुनाव ग्रास रूट के विकास के लिए जरूरी प्रक्रिया है. सरकार चुनाव के लिए प्रतिबद्ध है. राज्य में अप्रैल 2017 के बाद कोई भी चुनाव नहीं हो संपन्न हो पाया है. उस समय श्रीनगर बाईपोल में सिर्फ 7 फीसदी का मतदान दर्ज किया गया था. Also Read - कश्मीर में भारत 22 अक्टूबर को मनाएगा 'काला दिवस', 1947 में पाकिस्तान ने घाटी में कराई थी हिंसा

बुरहान के एनकाउंटर के बाद अशांति
श्रीनगर उपचुनाव के बाद अनंतनाग सीट का उपचुनाव आगे बढ़ा दिया गया था, जो कि अब तक नहीं हो पाया है. राज्य में साल 2016 में ही पंचायत चुनाव कराने थे, लेकिन बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद कश्मीर में जिस तरह से अंशाति फैली वैसी स्थिति में चुनाव संपन्न करा पाना कठिन रहा. Also Read - कश्मीर और लद्दाख में बनेंगी 100 किलोमीटर लंबी 10 सुरंगें, सेना का काम होगा आसान

पंचायत को मिली ये सुविधा
बता दें कि राज्य में पंचायत चुनाव में सभी लोगों के पार्टिशिपेट कराने के लिए सुब्रमण्यम ने घोषणा की थी कि वह पंचायत एक्ट में अमेंडमेंट करेंगे. उन्होंने कहा था कि पंचायत के अंतर्गत गांव के सभी चारागाह जमीन आएंगे. इसके साथ ही बस स्टॉप, एडवरटाइजिंग बिल बोर्ड, मोबाइल टॉवर और दूसरी चीजों से मिलने वाले टैक्स भी पंचायत को ही जाएंगे.

हिजबुल ने दी है धमकी
मालूम हो कि चुनाव की घोषणा के साथ ही आतंकवादी संगठन हिजबुल ने धमकी दी थी कि वह किसी भी कीमत पर पंचायत चुनाव नहीं होने देगा. चुनाव कराने पर उसने अंजाम भुगतने की भी धमकी दी थी. हाल ही में चार जवानों के अपहरण के बाद हत्या को उसी धमकी से जोड़ कर देखा जा रहा है.