श्रीनगर: प्रदर्शन के दौरान पिछले महीने घायल हुए कश्मीरी युवक ने बुधवार तड़के श्रीनगर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया, जिसके बाद अधिकारियों ने शहर के कुछ हिस्सों में फिर से प्रतिबंध लगा दिए. सौरा में छह अगस्त को भीड़ द्वारा किए प्रदर्शन में असरार अहमद खान घायल हो गए थे.

जम्मू-कश्मीर से पांच अगस्त को विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने के अगले ही दिन यह प्रदर्शन किया गया था. श्रीनगर के व्यवसायिक इलाकों और सिविल लाइन्स के कुछ इलाकों में एहतियाती तौर पर प्रतिबंध लगाए गए हैं. अधिकारियों ने बताया कि खान को सौरा के ‘शेर-ए-कश्मीर इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज’ में भर्ती कराया गया था. उसकी बुधवार तड़के मौत हो गई. पुलिस के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, ‘‘उसे कोई गोली नहीं लगी थी.’’

कश्मीर: 90 फीसदी हिस्से में पूरी तरह से हटाईं दिन की पाबंदियां, 26 हजार से अधिक लैंडलाइन फोन चालू

जम्मू कश्मीर के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने एक दिन पहले बताया था कि घाटी के 90 फीसदी हिस्से में दिन के समय की पाबंदियां हटा दी गई है. कंसल ने कहा कि कश्मीर घाटी में 111 पुलिस थाना क्षेत्रों में दिन के समय की पाबंदियां 92 थाना क्षेत्रों से पूरी तरह से हटा दी गई है, जो पिछले हफ्ते के 81 थाना क्षेत्रों से अधिक है. उन्होंने कहा, ‘इस तरह घाटी के 90 फीसदी हिस्से में दिन के समय की पाबंदियां पूरी तरह से हटा दी गई हैं.’ प्रधान सचिव ने कहा, ‘जम्मू और लद्दाख सभी तरह की पाबंदियों से पहले से ही पूरी तरह से मुक्त हैं. जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के 93 फीसदी हिस्से आज किसी निषेधाज्ञा से पूरी तरह से मुक्त हैं.’ उन्होंने कहा कि घाटी में 26,000 से अधिक लैंडलाइन फोन काम कर रहे हैं. कंसल ने कहा, ‘हमने 29 और टेलीफोन एक्सचेंज खोलने का फैसला किया है. इस तरह कुल 95 एक्सचेंज में से अब 76 संचालित हो रहे हैं.’