श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में सुरक्षाबलों ने एक मुठभेड़ में  पांच आतंकियों को मार गिराया है. मारे गए आतंकियों से भारी मात्रा में हथियार और बड़े हमले के लिए जुटाई लड़ाई का सामान बरामद हुआ है. वहीं, स्थानीय लोगों ने आतंकियों के समर्थन में सेना पर पथराव किया. इस पत्थरबाजी में पांच सीआरपीएफ जवान जख्मी हो गए हैं. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मुठभेड़ स्थल के समीप प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाबलों के बीच झड़पें शुरू हो गई. अभी इसमें किसी के घायल होने की कोई सूचना नहीं है. उन्होंने बताया कि कानून प्रवर्तन एजेंसियां इलाके में व्यवस्था बहाल करने की कोशिश कर रही हैं. मुठभेड़ स्थल से पांच आतंकियों के शव बरामद हुए हैं.

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि आतंकवादियों ने रविवार की सुबह जिले के कल्लेम गांव में सुरक्षाबलों के तलाशी दल पर गोलियां चलाई, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई. उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में पांच आतंकवादी मारे गए और मौके से हथियार एवं युद्ध संबंधी सामग्री बरामद की गईं. मारे गए आतंकियों में तीन आतंकी जवान मुख्तार अहमद की हत्या में शामिल थे.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि मारे गए आतंकवादियों की पहचान वसीम अहमद राथर, अकीब नजीर मीर, परवेज अहमद भट, इद्रिस अहमद भट और जाहिद अहमद पार्रे के तौर पर हुई है. पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया, ”पुलिस रिकॉर्ड के मुताबिक, यह हिजबुल मुजाहिदीन एवं लश्कर-ए-तैयबा और उनके आतंकवादियों का समूह था. सही-सही संबद्धता के बारे में पता लगाया जा रहा है. वे सुरक्षा संस्थापनों पर हमला करने एवं आम लोगों पर अत्याचार करने समेत आतंकवाद के कई अपराधों में संलिप्तता के लिए वांछित थे.” उन्होंने बताया कि वसीम, अकीब और परवेज एक आम नागरिक मोहम्मद इकबाल कावा और सेना के एक जवान मुख्तार अहमद की हत्या में शामिल थे. प्रवक्ता ने बताया कि आतंकवादियों का यह समूह अनंतनाग एवं कुलगाम जिले में हथगोलों से किए गए कई हमलों में भी शामिल था.

सेना के एक अधिकारी ने यहां बताया कि आतंकवादियों ने रविवार की सुबह जिले के कल्लेम गांव में सुरक्षाबलों के एक तलाशी दल पर गोलियां चलाई, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई.  मुठभेड़ में पांच आतंकवादी मारे गए. आतंकवादियों और उनके संगठन की पहचान अभी नहीं हुई है. अधिकारी ने बताया कि मुठभेड़ स्थल से हथियार और युद्ध जैसी सामग्री बरामद की गई है. मुठभेड़ स्थल के पास नागरिक प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच झड़प भी शुरू हो गई. सुरक्षा बलों ने भीड़ को तीतर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले और पेलेट का प्रयोग किया. अधिकारियों ने ऐहतियात के तौर पर कुलगाम में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया है.

आंध्र प्रदेश की रैली में पीएम मोदी का हमला-चन्द्रबाबू नायडू ने अपने ससुर की पीठ में छुरा घोंपा

रविवार को हुई इस मुठभेड़ की पुष्टि करते हुए सेना के सीनियर अधिकारी ने बताया कि कुलगाम जिले के केल्लम देवसर इलाके में सुरक्षाबलों ने एक एनकाउंटर में पांच आतंकियों को ढेर कर दिया है. सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ होने के बाद उनके 5 शव जब्त हुए है. ऑपरेशन खत्म होने के बाद सर्च ऑपरेशन चलाया गया है.

17 राज्यों के 111 जिले के सभी नागरिकों को मिलेंगे आईडी कार्ड

बता दें कि बीते 6 फरवरी को सुरक्षा बलों ने जम्मू कश्मीर के पुलवामा में एक संक्षिप्त मुठभेड़ में आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) का एक स्वयंभू जिला कमांडर इरफान अहमद शेख को मार गिराया था. शेख एलईटी से संबद्ध था और पुलवामा में संगठन के जिला कमांडर के रूप में जाना जाता था. आतंकी अपराधों में उसकी सहभागिता के कारण पुलिस को उसकी तलाश थी. प्रवक्ता ने बताया कि इरफान शेख का एक लंबा आपराधिक इतिहास था जिसमें उसके खिलाफ कई आतंकी मामले दर्ज थे। ग्रेनेड हमलों सहित इलाके में सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर कई आतंकी हमलों और साजिश में वह संलिप्त था.