जम्मूः छह दिन बाद ट्रांसपोर्टरों द्वारा सांबा जिले में टॉल प्लाजा के खिलाफ अपनी हड़ताल अस्थायी रूप से वापस लेने के बाद जम्मू-पठानकोट राजमार्ग पर रविवार को निजी बस सेवा बहाल हो गई. सरकार ने उनके मुद्दों का समाधान करने का आश्वासन दिया है. इस बीच, ट्रांसपोर्टरों ने सरकार को उनकी मांगों का समाधान करने के लिए 10 दिन का समय दिया है, अन्यथा राज्यभर में चक्का जाम की धमकी दी है.

भारत में सितंबर 2018 से अगस्त 2019 तक 292 पुलिसकर्मी हुए शहीद

वे सोमवार को अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गये थे. उनका दावा था कि यह टॉल टैक्स बीमा, परमिट, यातायात उल्लंघन जुर्माने और ईंधन के दाम में वृद्धि के बाद अतिरिक्त बोझ है. कठुआ-जम्मू बस एसोसिएशन के अध्यक्ष कुलदीप सिंह ने कहा कि, ‘‘ 10दिन की हड़ताल को निलंबित करने का निर्णय विभिन्न एसोसिएशनों के प्रतिनिधियों की बैठक के बाद लिया गया है.

कश्मीरी गेट मेट्रो स्टेशन से CISF ने जब्त किए 500 के 4 लाख 64000 रुपए के जाली नोट

उससे पहले जम्मू के संभागीय आयुक्त संजीव वर्मा ने आश्वासन दिया था कि सरोर में टॉल टैक्स में बड़ी राहत दी जाएगी.’’ उन्होंने बताया कि बैठक के बाद आज सुबह से बस सेवा बहाल करने का निर्णय लिया गया ताकि दिवाली के मद्देनजर लोगों को आवाजाही में आसानी हो.