लंदन: लंदन के महापौर (मेयर) सादिक खान ने अगले रविवार दिवाली के दिन कश्मीर मुद्दे पर यहां भारत विरोधी मार्च निकाले जाने की योजना की निंदा की है. साथ ही, पाकिस्तानी मूल के खान ने कहा कि इससे ब्रिटेन की राजधानी में विभाजन और गहरा होगा. उन्होंने आयोजकों एवं इसमें शामिल होने वाले संभावित प्रदर्शनकारियों से विरोध मार्च रद्द करने की अपील की है. लंदन महानगर पुलिस के मुताबिक इस प्रस्तावित मार्च के लिए अनुमति मांगी गई है और इसमें 5,000 से 10,000 प्रदर्शनकारियों के शामिल होने का अनुमान है. ब्रिटिश प्रधानमंत्री के आवास डाउनिंग स्ट्रीट के पास रिचमंड टेरेस से लेकर भारतीय उच्चायोग तक मार्च निकाले जाने की योजना है.

लंदन एसेंबली के सदस्य एवं भारतीय मूल के नवीन शाह के पत्र के जवाब में खान ने अपने पत्र में कहा, ‘‘मैं दिवाली के पावन अवसर पर भारतीय उच्चायोग के नजदीक तक विरोध मार्च निकालने की योजना की सख्त निंदा करता हूं.’’ खान ने 18 अक्टूबर को लिखे पत्र में कहा, ‘‘यह मार्च ऐसे वक्त में लोगों के बीच विभाजन को सिर्फ बढ़ाएगा, जब सभी लंदनवासियों को एकजुट होने की जरूरत है. इसलिए मैं मार्च के आयोजकों और इसमें शामिल होने पर विचार करने वालों से इसे रद्द करने की अपील करता हूं.’’

PoK में भारतीय सेना ने मार गिराए 6-10 पाक सैनिक, सामने आईं आतंक की बर्बादी के तस्वीरें

उन्होंने कहा कि उनका कार्यालय मार्च के दौरान निगरानी सुनिश्चित करने के लिए स्कॉटलैंड यार्ड (लंदन महानगर पुलिस) के साथ मिलकर काम कर रहा है. खान ने लिखा, ‘‘आप जानते हैं कि ऐसे मार्च पर रोक लगाने का अधिकार गृहमंत्री के पास है न कि एक लंदन के महापौर के तौर पर मेरे पास. इसलिए मैं आपके पत्र की एक प्रति गृहमंत्री प्रीति पटेल, महानगर पुलिस आयुक्त क्रेसिडा डिक को भेज रहा हूं ताकि वे मेरी चिंताओं के अनुरूप इसपर विचार कर सकें.

PoK में आतंकी कैप तबाह करने के बाद बोले सेना प्रमुख बिपिन रावत- करीब आ रहे थे आतंकी इसलिए की कार्रवाई

शाह ने अपने पत्र में 15 अगस्त को भारतीय उच्चायोग के सामने भारतीय मूल के लोगों और पाकिस्तानी मूल के लोगों के बीच हुई झड़पों का जिक्र किया था. इस बारे में खान ने कहा, ‘‘ मैं समझ सकता हूं कि क्यों कई ब्रिटिश भारतीय इतने चिंतित हैं. भारतीय उच्चायोग के सामने पिछली बार हुए प्रदर्शनों से कई लोग डरे हुए हैं. मैं सभी लंदनवासियों को भरोसा दिलाता हूं कि किसी भी गैरकानूनी गतिविधि के लिए पुलिस जिम्मेदार होगी.’’ उल्लेखनीय है कि इस मार्च में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के कथित राष्ट्रपति सरदार मसूद खान और प्रधानमंत्री राजा मुहम्मद फारूक हैदर खान के भी शामिल होने की संभावना है.

(इनपुट भाषा)