Janata curfew in India:कोरोना वायरस (Corona Virus) से जंग के लिए जनता कर्फ़्यू का आज व्यापक असर देखने को मिल रहा है. लगभग पूरे देश के लोग घरों में कैद हो गए हैं. बाज़ार, सड़कें खाली हैं. मेट्रो-ट्रेन, बसें बंद हैं. दिल्ली में अगर बिना वजह घूमने या दुकान खोलने पर 11 हज़ार रुपए का जुर्माना वसूला जाएगा. पीएम मोदी ने लोगों से अच्छी सेहत के लिए घरों में ही रहने की अपील की है. इस बीच देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 320 पार हो गई है. कोरोना अब तेजी से पैर पसारने की ओर बढ़ रहा है. हालत देखते हुए कई राज्यों ने लॉकडाउन किया है. राजस्थान ने 31 मार्च तक पूरी तरह से राज्य को बंद कर दिया है. महाराष्ट्र, गुजरात, ओडिशा और बिहार जैसे राज्यों ने महीने के अंत तक आंशिक बंदी लागू कर दी है. Also Read - खाली स्टेडियम में क्रिकेट मैच के आयोजन के सवाल पर बिफरा ये पाकिस्तानी दिग्गज, कहा-मैं इस सुझाव...

ट्रेनें रद्द
देश के किसी भी रेलवे स्टेशन से आधी रात से रविवार रात 10 बजे तक कोई भी पैसेंजर ट्रेन नहीं चले चलने वाली है, जबकि सभी उपनगरीय ट्रेन सेवाओं को न्यूनतम हैं. दिल्ली सहित अन्य शहरों में मेट्रो सेवाएं दिन भर के लिए स्थगित हैं. गो एयर, इंडिगो और विस्तार जैसह उड्डयन कंपनियों के प्रतिष्ठान भी बंद हैं. कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (सीएआईटी) ने भी देशभर में अपने प्रतिष्ठान बंद रखे हैं. Also Read - प्रधानमंत्री की आपत्तिजनक तस्वीर को सोशल मीडिया पर किया पोस्ट, पिता-पुत्र गिरफ्तार

प्रार्थनाएं भी रद्द
हर क्षेत्र में संगठनों और संस्थानों ने रविवार के लिए पाबंदियों की घोषणा की है. रविवार को गिरजाघरों में होने वाली प्रार्थना ‘संडे मास’ सहित विभिन्न धार्मिक स्थलों में होने वाली नियमित प्रार्थनाओं को स्थगित कर दिया गया है. जेल के कैदियों को अपने परिवार से मिलने पर रोक लगा दी गई है.

ओला, उबर सिर्फ आपातकाल के लिए उपलब्ध
हर वक़्त उपलब्ध रहने वाली ऑनलाइन टैक्सी सेवा देने वाली कंपनी ओला और उबर भी सिर्फ आपातकाल स्थिति के लिए उपलब्ध हैं. ओला ऊबर ने कहा कि हम देशभर में अपने ग्राहकों को सवेरे सात से नौ के बीच गैर-जरूरी यात्रा नहीं करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं.

नेताओं का समर्थन
उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने भी देश के लोगों से रविवार को खुद को घरों तक सीमित रखने की अपील की. नायडू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रविवार को ‘जनता कर्फ्यू’ के आह्वान का उल्लेख करते हुए कहा कि चूंकि वायरस शारीरिक संपर्क के माध्यम से फैलता है, इसलिए इसके प्रसार को रोकने के लिए एक निश्चित अवधि के दौरान सामाजिक मेल जोल से दूर रहना एक प्रभावी उपाय है. नायडू ने कहा कि इसका मतलब है कि मेल जोल से दूर रह कर खुद का और दूसरों का ध्यान रखा जा सकता है, जिसकी पैरवी चिकित्सा विशेषज्ञों और डब्ल्यूएचओ द्वारा मुख्य रूप से की जा रही है. उपराष्ट्रपति ने राजनीतिक दलों, नागरिक समाज संगठनों और अन्य लोगों से आग्रह किया कि इस मौके का इस्तेमाल देश के लिए चुनौती उत्पन्न करने वाली इस महामारी से एकजुट होकर मुकाबला करने के लिए करें. उन्होंने कहा कि इस चुनौती से निपटने के लिए दूसरों को शिक्षित और प्रेरित करना प्रत्येक नागरिक की जिम्मेदारी है.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, “जनता कर्फ्य को लोगों की अपनी स्वैच्छिक भागीदारी के साथ प्रेरित करने की पहल के संदर्भ में देखा जाना चाहिए. यह बहुत ही आश्वस्त करने वाली बात है कि लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील का बहुत ही सकारात्मक रूप प्रतिक्रिया जतायी है. घरों में रहने वाले और खुद को सामाजिक मेलजोल से दूर रखने वाले लोग इस वायरस को फैलने से रोकने के उपायों का हिस्सा हैं.’’

दिल्ली में ऑटो रिक्शा भी बंद, सिर्फ आपात स्थिति के लिए बसें सड़कों पर
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि रविवार को 50 प्रतिशत बसें सड़कों पर हैं. यह देखते हुए कि कुछ लोगों को आपातकाल के कारण यात्रा करनी पड़ सकती है. हालांकि, ऑटो और टैक्सी राष्ट्रीय राजधानी की सड़कों से दूर रहेंगी क्योंकि दिल्ली ऑटोरिक्शा संघ, दिल्ली प्रदेश टैक्सी यूनियन, दिल्ली ऑटो टैक्सी ट्रांसपोर्ट कांग्रेस यूनियन और दिल्ली टैक्सी टूरिस्ट ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन सहित कई यूनियन ने ‘जनता कर्फ्यू’ में शामिल होने का फैसला किया है.

रजनीकांत ने भी किया समर्थन
नेताओं ने व्यापारियों से आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी नहीं करने और लोगों को केवल आवश्यक वस्तुओं की खरीद नहीं करने का आग्रह किया. तमिल सुपरस्टार रजनीकांत ने एक वीडियो संदेश में कहा, “हम वायरस को तीसरे चरण में प्रवेश करने से रोक सकते हैं, यदि लोग घर के अंदर रहें और इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की घोषणा की है.”

गोवा के आर्कबिशप फिलीप नेरी फेरराओ ने कोविड19 महामारी से लड़ने के लिए “जनता” कर्फ्यू के आह्वान के समर्थन में सभी चर्चों में रविवार के ‘संडे मास’ (सामूहिक प्रार्थना) रद्द कर दी. सूत्रों ने कहा कि दिल्ली में भी सेंट पीटर्स मार थॉमस सीरियन चर्च, पटपड़गंज और मध्य दिल्ली में कैथेड्रल चर्च ऑफ रिडेम्पशन ने ‘संडे मास’ और अगले सप्ताह के लिए सभी प्रार्थनाएं रद्द कर दिया है.

अनावश्यक न घूमें लोग
प्रधानमंत्री ने शनिवार को विभिन्न संगठनों और व्यापारिक निकायों को कोरोनो वायरस के प्रसार को रोकने के उनके प्रयासों के लिए धन्यवाद दिया. मोदी ने इस वायरस को लेकर लोगों द्वारा किये गए ट्वीट पर कहा, ‘‘कभी मत भूलें… सावधानी, घबराहट नहीं.” उन्होंने कहा कि न केवल अपने घर पर होना जरूरी है, बल्कि उस शहर / नगर में ही रहना जरूरी हैं जहाँ वे हैं. मोदी ने कहा, “अनावश्यक यात्राएं आपकी या दूसरों की मदद नहीं करेंगी. इस समय में, हमारी ओर से किए गए हर छोटे प्रयास एक बड़ा प्रभाव होगा.” उन्होंने कहा कि यह ऐसा समय है जब हम सभी को डॉक्टरों और अधिकारियों द्वारा दी गई सलाह को सुनना चाहिए. उन्होंने कहा, “जिन लोगों को घर में पृथक रहने के लिए कहा गया है, मैं आपसे निर्देशों का पालन करने का अनुरोध करता हूं. यह आपकी और साथ ही आपके दोस्तों और परिवार की सुरक्षा करेगा.” प्रधानमंत्री ने एक वीडियो भी साझा किया जिसमें दिखाया गया था कि यह वायरस कैसे फैलता है और छोटी-छोटी सावधानी बरतकर कैसे इसके प्रकोप को रोका जा सकता है.

ओडिशा सरकार ने शनिवार को एक सप्ताह के लिए पांच जिलों और आठ अन्य प्रमुख शहरों में “बंद जैसी स्थिति” की घोषणा की है. ये जिले हैं खुर्दा, गंजाम, कटक, केंद्रपाड़ा और अंगुल जबकि नगरों में पुरी, संबलपुर, झारसुगुड़ा, बालासोर, राउरकेला, भद्रक, जाजपुर रोड और जाजपुर शामिल हैं. बिहार सरकार ने 31 मार्च तक राज्य भर में बस सेवाओं, रेस्तरां और बैंक्वेट हॉल को बंद करने का आदेश दिया. राज्य में सभी स्कूल और मॉल पहले से ही बंद हैं. अधिकारियों ने महाराष्ट्र के प्रमुख शहरों जैसे मुंबई, पुणे, ठाणे और नागपुर में बंद का पहले ही आदेश दे दिया है. अकोला जिला प्रशासन ने भी 22 से 24 मार्च के बीच बंद का आदेश दिया है.