नई दिल्ली: जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे (Shinzo Abe) रविवार को शुरू होने वाली अपनी भारत यात्रा को रद्द करने पर विचार कर रहे हैं. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक इस दौरे को रद्द करने को लेकर विचार किया जा रहा है. आबे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के बीच शिखर सम्मलेन का आयोजन गुवाहाटी में किया गया था. लेकिन गुवाहाटी में नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) को लेकर प्रदर्शन जारी है. इस प्रदर्शन ने तो अब उग्र रूप भी ले लिया है. यही वजह है कि जापानी पीएम अपनी भारत यात्रा को रद्द करने को लेकर विचार कर रहे हैं.

डिब्रूगढ़ में कर्फ्यू में ढील, गुवाहाटी में विरोध प्रदर्शन लगातार जारी

गौरतलब है कि नागरिकता बिल के खिलाफ असम मे पिछले दो दिनों से बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है, जिसमें हजारों लोग सड़कों पर उतर आए हैं. कई जगहों पर हालात काबू में लाने के लिए सेना का भी सहारा लिया जा रहा है. असम के लोग नागरिकता बिल को रद्द करने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. यही नहीं गुस्साए लोग कर्फ्यू का भी उल्लंघन भी कर रहे हैं.

अमेरिका ने भारत से किया अनुरोध, कहा- धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा करें

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को नई दिल्ली में एक साप्ताहिक मीडिया ब्रीफिंग में कहा, “हमारे पास इस मामले में साझा करने के लिए कोई अपडेट नहीं है.” पिछले हफ्ते कुमार ने घोषणा की थी कि पीएम मोदी और शिंजो आबे के बीच शिखर सम्मेलन 15 से 17 दिसंबर के बीच होगा. हालांकि सरकार ने शिखर सम्मेलन के लिए स्थल की घोषणा नहीं की है, लेकिन गुवाहाटी में इसकी मेजबानी के लिए तैयारी चल रही थी. यह पूछे जाने पर कि क्या सरकार कार्यक्रम स्थल को स्थानांतरित करने पर विचार कर रही है, कुमार ने कहा- “मैं इस पर स्पष्टीकरण देने की स्थिति में नहीं हूं. मेरे पास इस बारे में अभी कोई अपडेट नहीं है.”

असम: भारत की नागरिकता मिलने की उम्मीद से बाराक घाटी के हिंदू बांग्लादेशियों में खुशी का माहौल

पूर्वोत्तर में हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बीच गुरुवार को बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमिन (AK Abdul Momen) और गृह मंत्री असदुज्जमां खान (Asaduzzaman Khan) ने भी भारत की अपनी यात्रा को रद्द कर दिया. बांग्लादेश के गृह मंत्री खान ने आज एक कार्यक्रम के लिए मेघालय जाने वाले थे. गौरतलब है कि भारत और जापान ने दो सप्ताह पहले अपने विदेश और रक्षा मंत्रिस्तरीय वार्ता को आयोजित किया था. इसी कड़ी में पीएम मोदी और शिंजो आबे के बीच शिखर सम्मेलन की तैयारी की गई थी.