मुंबई: फिल्म लेखक और गीतकार जावेद अख्तर ने म्‍यूजिक कंपनियों से मिली 13 करोड़ रुपए की रॉयल्‍टी कलाकारों और लेखकों के बीच बांट बांटी है. जावेद अख्तर ने इंडियन परफॉर्मिंग राइट्स सोसाइटी (आईपीआरएस) के सदस्यों के बीच सोमवार को 13 करोड़ रुपए की रॉयल्टी की रकम बांटी. यह रकम म्यूजिक कंपनियों ने जमा कराई थी. जावेद ने, ”मैं खुश हूं कि ऐसा हुआ. अब तक सब ठीक है, लेकिन हमें लंबा रास्ता तय करना है. ऐसा नहीं है कि मानो यह अंत है. जिन लोगों के साथ हमारे वैचारिक मतभेद थे, उन लोगों के साथ एक समझ बनी है और मतभेद दूर हुए हैं.”

जावेद आईपीआरएस के अध्यक्ष हैं. बता दें कि जावेद की अगुवाई वाली 48 वर्ष पुरानी कॉपीराइट रॉयल्टी कलेक्शन इकाई आईपीआरएस भारत में संगीत और इससे जुड़े कामकाज की एक आधिकारिक पंजीकृत कॉपीराइट सोसाइटी है.

अभी आईपीआरएस के कम से कम 2800 सदस्यों को फोनोग्राफिक परफार्मेन्स लिमिटेड द्वारा यह राशि बांटी जाएगी.जिसे सारेगामा, सोनी म्यूजिक, टिप्स, यूनिवर्सल म्यूजिक, वीनस और आदित्य म्यूजिक ने जमा कराया है.

लंबे समय से लेखकों और गीतकारों को रॉयल्टी मिलने की मांग करते आ रहे जावेद ने कहा कि आज के इस कार्यक्रम को विजय कहना ठीक नहीं होगा. म्यूजिक कंपनियों ने पिछले 6  सालों के लिए 13 करोड़ रुपए की रॉयल्टी दी है. 10 गानों से कम वाले सदस्यों को 10,000 रूपए, वहीं 10 गानों से ज्यादा वाले सदस्यों को 53,000 रुपए दिए जाएंगे. अनेक कंपनियों ने आगे आकर रकम दी है, लेकिन टीसीरीज और यशराज फिल्म्स अभी इसमें शामिल नहीं हुए हैं. अख्तर ने कहा कि कोई कड़वाहट नहीं है और वह दोनों कंपनियों ने बात कर रहे हैं.  (इनपुट एजेेंसी)