नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी ने उत्तर प्रदेश से पूर्व अभिनेत्री जया बच्चन को दोबारा से राज्यसभा उम्मीदवार बनाने की घोषणा की है. बता दें कि 3 अप्रैल को जया बच्चन की राज्यसभा सदस्यता समाप्त हो जाएगी. जया बच्चन का नाम आने के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता नरेश अग्रवाल और किरनमय नंदा का पत्ता साफ हो गया है. इस एक सीट के लिए दोनों की दावेदारी मजबूत मानी जा रही थी. Also Read - अमर सिंह की मौत के बाद अमिताभ बच्‍चन ने ट्वीट की अपनी ये फोटो, नहीं लिखा एक भी शब्‍द

Also Read - कभी पक्के दोस्त थे अमर सिंह और अमिताभ बच्चन, जानें किन कारणों से आ गई थी दोस्ती में इतनी दरार

बता दें कि सपा के नरेश अग्रवाल, किरणमय नंदा और जया बच्चन का राज्यसभा कार्यकाल पूरा हो रहा है. सपा के पास सिर्फ 47 वोट हैं, पार्टी एक ही सदस्य को राज्यसभा भेज सकती है. बाकी के अतिरिक्त वोट को गठबंधन के तहत बीएसपी उम्मीदवार को देगी. ऐसे में पार्टी ने नरेश अग्रवाल और किरणमय नंदा को राज्यसभा का टिकट नहीं दिया है. सपा ने अपने तीन सदस्यों में सिर्फ जया बच्चन को भेजने का फैसला किया है. निर्वाचन के बाद जया बच्चन दूसरी बार समाजवादी पार्टी से राज्यसभा का प्रतिनिधित्व करेंगी. Also Read - अमर सिंह के निधन पर पीएम नरेंद्र मोदी और उपराष्ट्रपति ने जताया शोक, ट्वीट करके व्यक्त की अपनी संवेदनाएं

 यह भी पढ़ें: प्रवीण तोगड़िया की कार को ट्रक ने मारी टक्कर, बाल-बाल बचे

इस खबर पर एसपी के पूर्व नेता और कभी बच्चन परिवार के करीबी रहे अमर सिंह ने कहा, ‘जया बच्चन समाजवादी पार्टी के लिए वफादार रही हैं. वह नरेश अग्रवाल से बेहतर उम्मीदवार साबित होंगी.

कहा जाता है कि अमर सिंह ने उन्हें राजनीति में दाखिल कराया था, जिसके बाद वे समाजवादी पार्टी से पहली बार राज्यसभा सांसद बनीं थीं.

2012 में बनी थीं राज्यसभा सांसद

जया बच्चन समाजवादी पार्टी के टिकट पर अप्रैल 2012 में राज्यसभा सांसद बनीं थीं. एक तरफ जहां सचिन तेंदुलकर और रेखा जैसे सांसद संसद में नजर नहीं आए और इसके लिए आलोचनाओं का शिकार हुए वहीं जया बच्चन ने संसद में तमाम बहसों के दौरान अपनी जोरदार उपस्थिति दर्ज कराई। खासकर महिलाओं से जुडे़ मुद्दों को वो उठाती रहीं. जया बच्चन की उपस्थिति भी संसद में 77 फीसदी रही है.