चेन्नई: तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता अपना वजन कम कराने के लिए सर्जरी कराने के खिलाफ थीं. जयललिता के निधन की जांच कर रही एक सदस्यीय समिति के समक्ष अपना बयान दर्ज कराते हुए एक चिकित्सक ने कहा कि अन्नाद्रमुक नेता तबीयत में सुधार के लिए वजन कम करने के खिलाफ थीं.

एक शीर्ष अस्पताल में मधुमेह रोग विशेषज्ञ डॉक्टर जयाश्री गोपाल ने पूछताछ के दौरान समिति को बताया कि जयललिता ने सर्जरी के जरिए वजन कम करने के लिए हामी भरने से इनकार कर दिया था. उनके मुताबिक दिवंगत मुख्यमंत्री खानपान में कमी के जरिए वजन घटाना चाहती थीं.

चिकित्सक से पूछताछ करने वाले जयललिता की सहयोगी वी के शशिकला के वकील एन राजा सेंतूर पंडियन ने कहा कि स्वास्थ्य में सुधार के लिए यह परामर्श दिया गया था.

जन्मदिन विशेष: ऐसा था जयललिता का फिल्म से लेकर राजनीति तक का सफर

वकील ने चिकित्सक के हवाले से कहा, “चिकित्सक ने जयललिता को सुझाव दिया था कि वजन कम करने की सर्जरी से उनका चलना – फिरना आसान हो जाएगा और थायरॉयड जैसी बीमारियों पर काबू पाने में मदद मिलेगी.” उन्होंने कहा, “इस पर जयललिता ने कहा था कि वह खानपान में कमी के जरिए वजन घटाने की कोशिश करेंगी.”

(इनपुट: एजेंसी)