AIADMK-supremo-and-Tamil-Nadu-Chief-Minister-J-Jayalalithaa-addresses-during-an-election-campaign-4Also Read - ट्विटर के एमडी को बड़ी राहत, कर्नाटक हाईकोर्ट ने खारिज किया गाजियाबाद पुलिस का पेशी वाला नोटिस

Also Read - कर्नाटक हाईकोर्ट ने अमेजॉन-फ्लिपकार्ट के खिलाफ जांच रोकने की याचिका खारिज की, कैट ने किया स्वागत

तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता को आय से अधिक संपत्ति के मामले में कर्नाटक हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। हाई कोर्ट ने जयललिता और उनके तीन सहयोगियों को बरी कर दिया है। कोर्ट के इस फैसले के बाद अब उनके दोबारा मुख्‍यमंत्री बनने का रास्‍ता साफ हो गया है। कर्नाटक हाईकोर्ट के रूम नंबर 14 में जस्टिस सीआर कुमारस्वामी ने जो फैसला सुनाया, उसके तहत जयललिता की सहेली शशिकला सहित तीन सहयोगी भी बरी कर दिए गए हैं। जयललिता के बरी होते ही संसद भवन परिसर में एआईएडीएमके के सांसदों ने मिठाई बांटी और नारेबाजी की। यह भी पढ़े-जयललिता दोबारा बन सकती हैं मुख्यमंत्री Also Read - ट्विटर इंडिया के MD मनीष माहेश्वरी को बड़ी राहत, कर्नाटक हाईकोर्ट ने कहा- कोई कठोर कदम न उठाए गाजियाबाद पुलिस

कोर्ट के इस फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए स्‍पेशल पब्लिक प्रॉसिक्‍यूटर बी.वी. आचार्या ने कहा कि जज ने केवल दस सेकंड में फैसला सुना दिया, प्रॉसिक्‍यूशन को अपनी बात रखने का पूरा मौका नहीं दिया गया। यह भी पढ़े-आय से अधिक संपत्ति मामले में जयललिता को बड़ी राहत, कर्नाटक हाइकोर्ट ने बरी किया

कोर्ट के फैसले के बाद अब आगे क्‍या-क्या हो सकता है।

-कर्नाटक सरकार सुप्रीम कोर्ट में हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील कर सकती है।

-जयललिता फिर से तमिलनाडु की मुख्‍यमंत्री बन सकती हैं।

-जयललिता पर चुनाव लड़ने की पाबंदी भी खत्‍म हो गई है। अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में वह उम्‍मीदवार बन सकती हैं।

गौरतलब है कि जयललिता, उनकी करीबी शशिकला, दो अन्य रिश्तेदारों- इलावरासी और सुधाकरण को पिछले साल 27 सितंबर को 4 साल जेल की सजा सुनाई थी। जयललिता पर 100 करोड़ रुपये का भारी जुर्माना भी लगाया था, जबकि अन्य पर 10-10 करोड़ रुपये का जुर्माना लगा था। यह भी पढ़े-जयललिता के घर के बाहर जश्न का माहौल