Also Read - विरासत में पैसेंजर ट्रेन जैसी मिली अर्थव्यवस्था, राजधानी बनाया और अब बुलेट ट्रेन बनाएंगे: BJP

नई दिल्ली, 4 फरवरी | केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने बुधवार को कहा कि टिकाऊ विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग किया जाना चाहिए और उन्होंने पर्यावरण संरक्षण के लिए उद्यमियों से नवीन उत्पादों का विकास करने का आह्वान किया। सिन्हा ने यहां द एनर्जी एंड रिसोर्स इंस्टीट्यूट (टेरी) द्वारा आयोजित 15वें दिल्ली टिकाऊ विकास सम्मेलन के उद्घाटन भाषण में टिकाऊ विकास के लिए नवाचार पर बल दिया और कहा कि जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों से निपटने के लिए यह आज की जरूरत है। Also Read - जयंत सिन्हा अकेले कर रहे चुनाव प्रचार, उम्मीद है यशवंत सिन्हा उनके पक्ष में डालेंगे वोट

सिन्हा ने विकास को अत्यावश्यक बताते हुए कहा, “हम देश की विकास दर बिना महंगाई बढ़ाए 7-8 फीसदी पर रखना चाहते हैं.. यदि हम हर साल श्रम शक्ति का हिस्सा बनने वाले करीब एक करोड़ युवाओं को रोजगार देना चाहते हैं।” तीन दिवसीय सम्मेलन में उन्होंने कहा, “इस विकास दर से अर्थव्यवस्था का आकार अगले 10 सालों में दोगुना हो जाएगा। इसके लिए हमें अपनी उत्पादन क्षमता बढ़ानी होगी साथ ही यह भी सुनिश्चित करना होगा कि यह विकास टिकाऊ हो।” Also Read - केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा, लोकसभा चुनाव के बाद ‘स्थिर सरकार की संभावना कम’

टिकाऊ विकास को कायम रखने के लिए सिन्हा ने सुझाव दिया, “हमें सिर्फ भारत में विनिर्माण ही नहीं करना चाहिए, बल्कि हमें भारत में नवाचार भी करना चाहिए। इसी नवाचार से पर्यावरण संरक्षण में मदद मिलेगी और हम टिकाऊ तरीके से विकास कर पाएंगे।” उन्होंने जल अनुपलब्धता, प्रदूषण और पर्यावरणीय बदलाव को देश के तेज विकास की तीन प्रमुख बाधा बताई और टेरी के बायोडिग्रेडेबल प्लास्टिक का हवाला देते हुए कहा कि देश के विकास और पर्यावरण संरक्षण के लिए ऐसे ही नवाचार की जरूरत है।

पिछले 14 सालों से डीएसडीएस टिकाऊ विकास और इसके लिए जरूरी नीतिगत पहल से संबंधित चर्चा को मंच उपलब्ध कराता रहा है। 15वें सम्मेलन का थीम है ‘टिकाऊ विकास लक्ष्य और जलवायु परिवर्तन’। इस बार सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की-मून (वीडियो कानफरेंसिंग के जरिए), कैलिफोर्निया के पूर्व गवर्नर अर्नाल्ड स्क्वोर्जनेगर, टेरी के निदेशक और जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र अंतरसरकारी पैनल के अध्यक्ष आर.के. पचौरी भी हिस्सा ले रहे हैं। साथ ही इसमें विभिन्न देशों के प्रतिनिधि और देश-विदेश के पर्यावरण कार्यकर्ता भी शिरकत कर रहे हैं।