नई दिल्ली: कर्नाटक में सरकार बनने के साथ ही विभागों के बंटवारे को लेकर जेडीएस के साथ उभरे मतभेद के बीच कांग्रेस ने कहा है कि राज्य में पांच साल तक चलने वाली एक स्थिर सरकार देने के लिए वह अपने गठबंधन सहयोगी जेडीएस के साथ बारीकी से काम कर रही है. दक्षिणी राज्य में सरकार के कामकाज शुरू करने में हो रही देरी पर सफाई देते हुए कांग्रेस ने कहा कि उसने और जेडीएस ने चुनावी घोषणापत्र में जो वादे किए थे, उन्हें ध्यान में रखते हुए न्यूनतम साझा कार्यक्रम तैयार किया जाएगा. Also Read - आपातकाल की 46वीं बरसी पर भाजपा नेताओं ने की कांग्रेस की जमकर आलोचना

कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत ने कहा कि यह देरी यह सुनिश्चित करने के लिए है कि समन्वय समिति और न्यूनतम साझा कार्यक्रम उन वादों पर खरे उतरे जो दोनों पार्टियों ने चुनाव पूर्व अपने घोषणा पत्रों में किए थे. उन्होंने कहा कि प्रकिया जारी है और एक स्थिर एवं पांच साल पूरे करने वाली सरकार देने के प्रयास चल रहे हैं. पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भी देरी को तर्कसंगत ठहराते हुए कहा कि इटली में कोई सरकार नहीं है. उन्होंने बेल्जियम का भी उदाहरण दिया जहां नौ महीने से सरकार नहीं है. Also Read - Punjab कांग्रेस में कलह के बीच राहुल गांधी आज अपने निवास पर राज्‍य के विधायकों से मिलेंगे

(इनपुट भाषा) Also Read - पंजाब: कांग्रेस विधायक बाजवा ने तोड़ी चुप्पी, बोले- 'बेटे को नौकरी की पेशकश अस्वीकार कर दी है'