नई दिल्‍ली: सोमवार को सीबीएसई द्वारा घोषित जेईई मेन्‍स के नतीजों में अजब संयोग देखने को मिला है. रैंकिंग में पहले छह स्‍थान हासिल करने वाले छात्रों को एक जैसे स्‍कोर मिले हैं. इन सभी को 360 में से 350 अंक मिले हैं. आंध्र प्रदेश में विजयवाड़ा के भोगी सूरज कृष्‍णा को पहली रैंक मिली है, लेकिन हेमंत कुमार, पार्थ लतूरिया, प्रणव गोयल, गट्टू मैत्राया और पवन गोयल को भी मेन्‍स परीक्षा में सूरज कृष्‍णा के बराबर अंक मिले हैं. Also Read - Allahabad University entrance exam results: परीक्षा का परिणाम ऑनलाइन हुआ घोषित, इन्होंने मारी बाजी

स्‍कोर टाई हो तो ऐसे तय होती है रैंकिंग Also Read - सिलाई करके पिता करते हैं परिवार का पालन, 12वीं में टॉपर बेटी ने बताई ये ख्‍वाहिश

सीबीएसई के मुताबिक यदि छात्रों के स्‍कोर बराबर हों तो उनकी रैंकिंग का निर्धारण अलग-अलग सब्‍जेक्‍ट में मिले अंकों के आधार पर होती है. इसकी प्रक्रिया कुछ ऐसी होती है कि पहले मैथ्‍स के अंकों की तुलना की जाती है. इसमें बराबर अंक हों तो फिजिक्‍स के अंकों को देखा जाता है. इसमें भी दोनों बराबर हों तो केमिस्‍ट्री के अंकों की तुलना की जाती है. यदि तीनों सब्‍जेक्‍ट के अंकों की तुलना करने के बाद भी टाई की हालत बनी रही तो जिस छात्र के ज्‍यादा पॉजिटिव जवाब होते हैं, उसे ऊंची रैंकिंग मिलती है. Also Read - CBSE: नागपुर की छात्रा ने दोबारा कराई कॉपियों की जांच, बनी टॉपर

जेईइ्र परीक्षा के इतिहास में यह शायद पहला मौका है जब शीर्ष छह छात्रों को बराबर अंक मिले हैं. हालांकि, इस बार स्‍कोरिंग में कमी मिली है. पिछली बार मेन्‍स परीक्षा में टॉप करने वाले छात्र को 360 में से 360 अंक मिले थे.