श्रीनगर: जम्‍मू-कश्‍मीर में इस साल 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में जैश-ए-मोहम्मद के जिस आतंकवादी की कार उपयोग में लाई गई थी, उसे मंगलवार को जम्मू एवं कश्मीर के अनंतनाग जिले में मार गिराया गया. जम्मू कश्मीर के अनंतनाग जिले में आतंकवादियों के साथ मंगलवार को हुई मुठभेड़ में एक जवान शहीद हो गया. फिलहाल जारी मुठभेड़ में दो आतंकवादी भी मारे गए हैं. सोमवार को जिले में हुई एक अन्य मुठभेड़ में सेना के एक मेजर शहीद हो गए थे. जिले के वाघामा क्षेत्र में मंगलवार को हुए मुठभेड़ में जो दो आतंकवादी मारे गए हैं, उनमें सजाद अहम भट भी शामिल है. भट उर्फ अफजल गुरू की ही कार का उपयोग पुलवामा हमले में किया गया था.

बता दें कि सीआरपीएफ काफिले को निशाना बनाकर किए गए उस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. आतंकवादी ने विस्फोट से लदी कार को सीआरपीएफ काफिले में घुसा दी थी.

अचबल इलाके में सोमवार को मेजर शहीद हुए  थे
बता दें कि सोमवार को पुलवामा जिले के अचबल इलाके में आतंकवादियों के साथ हुई मुठभेड़ में सेना के एक मेजर शहीद हो गए थे और एक अन्य अधिकारी एवं दो सैनिक घायल हो गए थे. पुलिस सूत्रों ने बताया, “भट उर्फ अफजल गुरू पुलवामा हमले से कुछ दिन पहले आतंकवादी संगठन में शामिल हुआ था. वह अनंतनाग जिले के मारहामा गांव का निवासी था.” मंगलवार को हुई मुठभेड़ में एक जवान भी शहीद हो गया.

अनंतनाग में जवान शहीद, आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ जारी
दक्षिण कश्मीर जिले के बिजबेहरा इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में मिली खुफिया सूचना के आधार पर सुरक्षा बलों ने सोमवार सुबह घेराबंदी और तलाश अभियान शुरू किया था. आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलियां चलाई, जवाबी कार्रवाई के साथ ही मुठभेड़ शुरू हो गई. मुठभेड़ में एक जवान घायल हो गया था, जिसकी अस्पताल में मौत हो गई.

पुलवाम में आईईडी से ब्‍लास्‍ट में 9 जवान समेत दो नागरिक घायल
आतंकवादियों ने सोमवार को ही पुलवामा जिले में आईईडी (इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) लगे एक वाहन के जरिए सेना के एक पेट्रोल पंप को भी निशाना बनाया था। इस हमले में नौ जवान और दो नागरिक घायल हो गए थे. सभी का इलाज चल रहा है.

पुलवामा में पहले के हमले के घटनास्‍थल की दूरी 27 किमी
यह विस्फोट फरवरी में पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमले की जगह से करीब से 27 किलोमीटर की दूरी पर हुआ है. उस घटना में 40 जवान शहीद हो गए थे.

हाल में अनंतनाग में भी पांच जवान शहीद हुए
पिछले सप्ताह, जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने अनंतनाग में अर्द्धसैनिक बल के एक गश्ती दल पर हमला किया, जिसमें सीआरपीएफ के पांच जवान शहीद हो गए. हमले के तुंरत बाद घटनास्थल पर पहुंचे जम्मू कश्मीर पुलिस के एक अधिकारी को बुलेट प्रूफ वाहन से बाहर निकलते ही गोलियों से भून दिया गया था. उन्हें दिल्ली एम्स लाया गया लेकिन रविवार को उनकी मौत हो गई थी.