मुंबई: जेट एयरवेज के ऋणदाताओं ने ठप पड़ी इस विमानन कंपनी के विरुद्ध दिवालयापन प्रक्रिया शुरू करने का निर्णय लिया है, जिससे जेट एयरवेज का शेयर 52 प्रतिशत गिर गया. जेट एयरवेज का शेयर 52 प्रतिशत की जबरदस्त गिरावट के साथ दिन के सबसे निचले स्तर 32.25 प्रति शेयर पर पहुंच गया था. दोपहर बाद 1.41 बजे, जेट का शेयर 30.25 या 44.29 प्रतिशत की गिरावट के साथ 38.05 प्रति शेयर पर ट्रेंड कर रहा था.

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के 8500 करोड़ ऋण के अलावा, विमानन कंपनी के ऊपर लगभग 25,000 करोड़ रुपए का ऋण है, जिसमें संचालन लेनदारों का बकाया भी शामिल है. जेट एयरवेज ने खराब वित्तीय हालत के बाद 17 अप्रैल को अपने सभी संचालन को बंद कर दिया था. रेलवे को खाने की खराब गुणवत्ता और बायो-टॉयलेट के जाम होने की वजह से आलोचना झेलनी पड़ रही है.

भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई वाली बैंकों के समूह ने सोमवार को कहा, “हमने आईबीसी के तहत इसका हल निकालने का फैसला किया है, क्योंकि इसके लिए केवल एक सशर्त बोली प्राप्त हुई और सेबी से निवेशकों के छूट के लिए और सभी लेनदारों की समस्या का समाधान आईबीसी के तहत ही संभव है.