रांची: झारखंड विधानसभा ने बुधवार को भाजपा के जबर्दस्त विरोध के बीच प्रस्ताव पारित कर जामिया मिल्लिया इस्लामिया और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय जैसे प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थानों के परिसरों में छात्रों पर कथित बर्बर हमले एवं आक्रमण पर चिंता व्यक्त की. विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के नेता और राज्य के संसदीय कार्य मंत्री आलमगीर आलम ने इस सिलसिले में प्रस्ताव पेश किया जिसका भाजपा के सभी सदस्यों ने ने जबर्दस्त विरोध किया. Also Read - बंगाल चुनाव से पहले हेमा मालिनी का बड़ा बयान, कहा- भाजपा के सत्ता में आने पर ही लोगों का जीवन सुधरेगा

झारखंड में अब कोई भूखा नहीं मरेगा और हम द्वेष की राजनीति नहीं करेंगे: हेमंत सोरेन Also Read - सुशांत सिंह सुसाइड केस पर अब राजनीति हुई तेज़, कांग्रेस ने लिखा गृहमंत्री को पत्र, उठाई ये मांग

भाजपा विधायक इस प्रस्ताव के विरोध में अध्यक्ष के आसन के सामने भी आ गये, लेकिन उनके विरोध को दरकिनार कर जब सत्ताधारी पक्ष ने बिना किसी चर्चा के इस प्रस्ताव को पारित कराने की कोशिश की तो भाजपा के सभी सदस्यों ने वरिष्ठ भाजपा विधायक सीपी सिंह के नेतृत्व में विधानसभा की कार्यवाही का बहिष्कार कर दिया और वे सदन से बाहर चले गये. Also Read - भाजपा ने बंगाल सरकार पर लगाया आरोप, कहा- नहीं बांटने दिया जा रहा है पार्टी कार्यकर्ताओं को राहत सामग्री

सीएम हेमंत सोरेन ने शिकायत निपटाने के लिए ‘ट्विटर’ को बनाया हथियार

भाजपा विधायकों के बहिर्गमन के बाद सदन ने बिना किसी चर्चा के ध्वनि मत से इस प्रस्ताव को पारित कर दिया जिसमें कहा गया कि सदन इन बर्बर हमलों और आक्रमणों पर अपनी चिंता व्यक्त करता है. प्रस्ताव में कहा गया कि यह सदन अपनी इस चिंता से भारत सरकार को अवगत कराने का प्रस्ताव पारित करता है.