रांची: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शनिवार को कहा कि राज्य की नयी सरकार जनता की, खास कर युवाओं एवं किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए प्रयासरत है. मुख्यमंत्री ने बयान जारी कर कहा कि किसानों और युवाओं पर सरकार की खास नजर है. उन्होंने कहा कि किसान हमारे राज्य और देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं और इनकी खुशहाली और विकास के लिए इन्हें सारी सुविधाएं उपलब्ध कराने की हमारी कोशिश है.

चारा घोटाला मामले में गुरुवार को बयान दर्ज कराएंगे आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव

सोरेन ने कहा कि युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराना हमारी प्राथमिकता है और सभी जिलों में रोजगार कार्यालय को सुदृढ़ किया जाएगा जिससे युवाओं को इधर उधर न भटकना पड़े. वहीं कुछ दिनों पहले हेमंत सोरेन ने दावा किया कि उनके शासन में राज्य में कोई भूखा नहीं मरेगा और न ही उनकी सरकार द्वेष की राजनीति करेगी. झारखंड विधानसभा में आज द्वितीय अनुपूरक बजट मांगों पर चर्चा का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इसकी जानकारी दी.

हेमंत सोरेन ने कहा कि सभी जानते हैं कि पिछली सरकार में भूख से भी अनेक मौतें हुईं लेकिन नयी सरकार के कार्यकाल में ऐसी कोई मौत नहीं होगी.उन्होंने दोहराया कि उनकी सरकार द्वेष के भाव से राजनीति करने में विश्वास नहीं करती है न ही वह व्यक्तिगत रंजिश में विश्वास रखते हैं. उन्होंने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि उनकी सरकार के सामने बड़ा आर्थिक संकट है क्योंकि राज्य सरकार के खजाने खाली हैं लेकिन वह इन चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार हैं.

जामिया, जेएनयू छात्रों के समर्थन में झारखंड विधानसभा, बर्बर हमलों और आक्रमणों पर व्यक्त की चिंता

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने अपनी पहली मंत्रिमंडल में ही राज्य के सभी अनुबंधकर्मियों और छोटे कर्मचारियों के बकाये के भुगतान के निर्देश दिये थे और इसके लिए अनुपूरक बजट में वित्तीय व्यवस्था की है.