नई दिल्ली: रांची में जेल में बंद लालू प्रसाद यादव के लिए राहत की बड़ी खबर है. लालू प्रसाद यादव को झारखंड हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है. लालू को कोर्ट ने जमानत चारा घोटाला मामले में दी है. कोर्ट ने लालू यादव को 50 हज़ार के दो निजी मुचलके पर जमानत दिया है.

हालांकि, जमानत मिलने के बाद भी उन्हें जेल से रिहा नहीं किया जाएगा. क्योंकि उन पर चारा घोटाला मामले में देवघर, दुमका और चाईबासा तीनों मामलों में सजा हुई है. और दुमका और चाईबासा मामले में उन्हें अभी जामानत नहीं मिली है. इसलिए फिलहाल उन्हें जेल में ही रहना होगा. देवघर मामले में लालू यादव को 3.5 साल की सजा हुई थी. वहीं, दुमका मामले में 5 साल की सजा हुई थी. इसके अलावा चाईबासा में दो मामले थे जिसमें 7-7 साल की सजा हुई थी.

पिछले काफी समय से लालू प्रसाद यादव के लिए जमानत की कोशिश की जा रही थी. लोकसभा चुनाव के दौरान राष्ट्रीय जनता दल द्वारा लालू को जमानत के प्रयास किये जा रहे थे, लेकिन उन्हें जमानत नहीं मिल पाई थी. लालू ने जेल से ही पत्र लिखकर और सोशल मीडिया पर सक्रिय होकर चुनाव में अपनी मौजूदगी दर्ज कराने की कोशिश की थी, जिसका कुछ ख़ास फायदा नहीं मिल पाया था.

लालू की गैरमौजूदगी का असर ये था कि आरजेडी गठबंधन में चुनाव लड़ने के बाद भी एक सीट तक नहीं जीत पाई थी. चुनाव में बुरी तरह से हार के बाद तेजस्वी यादव एक माह तक गायब रहे. वह सार्वजनिक रूप से सामने नहीं आए.