जम्मू: जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे इलाकों में सोमवार को पाकिस्तानी सैनिकों ने गोलीबारी की और मोर्टार दागे, जिससे सेना का एक जवान शहीद हो गया. वहीं, भारतीय सेना पाकिस्‍तानी सेना को  मुंहतोड़ जवाब दे रही है. तड़के तीन बजकर 50 मिनट तक दोनों ओर से गोलीबारी जारी थी. Also Read - लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने की भाजपा नेता की हत्या, आईजी ने कहा- यह सुनियोजित हमला है

पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर और राजौरी के नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास और कठुआ जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान की ओर से अब भी मोर्टार दागे जा रहे हैं व गोलीबारी जारी है. नौशेरा सेक्टर में सीमा पार से की गई गोलाबारी में अग्रिम चौकी पर तैनात सेना का एक जवान घायल हो गया था, जिसने बाद में दम तोड़ दिया. Also Read - भाजपा नेता की हत्या पर बोले जेपी नड्डा- पार्टी के लिए यह बड़ा नुकसान, लेकिन व्यर्थ नहीं जाएगा बलिदान

ताजा जानकारी के मुताबिक पाकिस्‍तानी गोलाबारी में शहीद हुए जवान का नाम हवलदार दीपक कर्की है. Also Read - Corornavirus in Jammu-Kashmir: जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस संक्रमण के 330 नए मामले, जानें घाटी में कहां कितने मरीज

इससे पहले रक्षा प्रवक्ता ने कहा था, ”तड़के साढ़े तीन बजे पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना किसी उकसावे के पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास छोटे हथियारों से गोलीबारी की और मोर्टार के गोले दागे. इसके बाद सुबह करीब साढ़े पांच बजे पाकिस्तानी सेना ने बिना किसी उकसावे के राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में संघर्ष विराम का उल्लंघन किया.

प्रवक्ता ने बताया कि भारतीय सेना इसका मुंहतोड़ जवाब दे रही है. कठुआ जिले के हीरानगर सेक्टर के करोल मटराई इलाके में पाकिस्तान रेंजर्स अंतरराष्ट्रीय सीमा पर अग्रिम चौकियों और गांवों पर भारी गोलीबारी कर रहे हैं. पाकिस्तान ने देर रात एक बजे बिना किसी उकसावे के गोलीबारी करनी शुरू की, जिसका सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने मुंहतोड़ जवाब दिया. तड़के तीन बजकर 50 मिनट तक दोनों ओर से गोलीबारी जारी थी.

राजौरी और पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी गोलीबारी में शहीद हुआ यह चौथा सैन्यकर्मी है. पाकिस्तान ने राजौरी जिले में चार और 10 जून को गोलीबारी की थी, जिनमें दो जवान शहीद हुए थे और 14 जून को पुंछ जिले में सीमा पार गोलीबारी में अन्य एक जवान शहीद हुआ था.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर सीमा पर इस साल पाकिस्तान की ओर से गोलाबारी काफी बढ़ गई है. 10 जून तक पाकिस्तान 2,027 से अधिक बार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर चुका था.