Jammu & Kashmir Latest News: जम्‍मू-कश्‍मीर की पूर्व मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने राज्‍य की पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए बयान दिया कि उन्‍हें फिर से अवैधरूप से हिरासत में लिया गया है. वहीं, कुछ कश्‍मीर जोन की पुलिस ने पूर्व सीएम मुफ्ती के दावे को नकारते हुए कहा है कि पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती नजरबंद नहीं हैं और उन्हें सुरक्षा चिंताओं के कारण पुलवामा का दौरा नहीं करने की सलाह दी गई है.Also Read - वाराणसी अदालत का बड़ा फैसला, ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे में मिले शिवलिंग को किया जाए सील, प्रशासन ने बढ़ाई सख्ती | Watch Video

Also Read - राहुल भट्ट हत्याकांड: कश्मीरी पंडितों ने बीजेपी नेताओं के खिलाफ नारेबाजी की, रो पड़ी महिलाएं

पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती ने एक बयान में दावा किया था, ”दो दिन से मुझे फिर से अवैध रूप से हिरासत में लिया गया है. जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने मुझे पुलवामा में पार्टी नेता वहीद उर रहमान के परिवार की यात्रा करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है. उन्हें आधारहीन आरोपों में गिरफ्तार किया गया था. पीडीपी नेता और पूर्व जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा ने कहा, यहां तक कि मेरी बेटी को भी नजरबंद रखा गया है. Also Read - कश्मीरी पंडितों में ‘असुरक्षा’ की भावना बढ़ी, फिर घाटी छोड़कर गए तो ये काला धब्बा होगा: बीजेपी

बता दें कि बता दें कि देश में 2019 में हुए संसदीय चुनाव में समर्थन हासिल करने के लिए आतंकवादी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन (Hizbul Mujahideen) के साथ कथित सांठगांठ के मामले में इस सप्ताह की शुरुआत में गिरफ्तार पीडीपी नेता वहीद पर्रा (Waheed ur Rehman Parra) को शुक्रवार को 15 दिन के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की हिरासत में भेज दिया गया है.

पर्रा को इरफान शफी मीर के साथ उसके करीबी संबंध मामले में जम्मू में एनआईए की अदालत में पेश किया गया. मीर को इस वर्ष की शुरुआत में हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी नवीद बाबू और निलंबित डिप्‍टी एसपी दविंदर सिंह के साथ गिरफ्तार किया गया था.