नई दिल्ली: अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने सोमवार को आरोप लगाया कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में शिक्षकों एवं छात्रों पर किए गए हमले में वाम कार्यकर्ताओं का हाथ था. एबीवीपी की जेएनयू इकाई के सचिव मनीष जांगीड़ ने आरोप लगाया, “वाम कार्यकर्ताओं ने नियोजित ढंग से हमलों को अंजाम दिया.” साथ ही उन्होंने दावा किया कि नकाबपोश हमलावरों की अगुवाई जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष कर रहीं थीं. Also Read - पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस की इस यूनिवर्सिटी के छात्र संघ चुनाव में NSUI की बड़ी जीत, कांग्रेस खुश

जेएनयू हिंसा: दिल्ली से लेकर कोलकाता, मुंबई तक छात्रों का प्रदर्शन; बॉलीवुड भी हुआ शामिल, अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई Also Read - VIDEO: महाराष्ट्र में ABVP कार्यकर्ताओं ने मंत्री के काफिले को रोका, पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

वहीं जवाहर लाल नेहरू छात्र संघ (JNUSU) ने विश्वविद्यालय में हुई हिंसा के लिए कुलपति को जिम्मेदार ठहराया. जेएनयू छात्र संघ ने कुलपति जगदीश कुमार पर ‘‘डकैत’’ की तरह पेश आने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने यह सुनिश्चित करने के लिए सभी ताकतों का इस्तेमाल किया कि छात्रों और शिक्षकों को ‘‘हिंसा’’ का सामना करना पड़ा. Also Read - ABVP फीस बढ़ाने के सरकार के फैसले के विरोध में उतरा, कहा- ये अमानवीयता है, निर्णय तुरंत वापस हो

हिंसा के बीच जेएनयू ने सेमेस्टर पंजीकरण की तारीख आगे बढ़ाई

उसने यह भी आरोप लगाया कि ‘‘हिंसा के लिए’’ लाठियों और छड़ों के साथ बाहरी लोगों को लाया गया. जेएनयू छात्र संघ ने कहा, ‘‘कुलपति, एक कायर कुलपति हैं, जो पीछे के रास्ते से अवैध नीतियों को अंजाम देते हैं, छात्रों या शिक्षकों के सवालों से बचते हैं और फिर जेएनयू में खराब स्थिति उत्पन्न करते हैं.’’