नई दिल्ली: जवाहर लाल नेहरू छात्र संघ (JNUSU) ने विश्वविद्यालय में हुई हिंसा के लिए सोमवार को कुलपति को जिम्मेदार ठहराया. जेएनयू छात्र संघ ने कुलपति जगदीश कुमार पर ‘‘डकैत’’ की तरह पेश आने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने यह सुनिश्चित करने के लिए सभी ताकतों का इस्तेमाल किया कि छात्रों और शिक्षकों को ‘‘हिंसा’’ का सामना करना पड़ा. Also Read - कन्हैया कुमार ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा- राजद्रोह के आरोप प्रसाद की तरह नि:शुल्क बांटे जा रहे हैं

JNU Violence: परिसर में हिंसा के बाद गृहमंत्री ने LG को दिया बातचीत करने का निर्देश, जानें 10 अहम बातें Also Read - दिल्ली हाई कोर्ट का फरमान: प्रदर्शन के चलते बाधित परीक्षाओं के बारे में जेएनयू करे चर्चा 

उसने यह भी आरोप लगाया कि ‘‘हिंसा के लिए’’ लाठियों और छड़ों के साथ बाहरी लोगों को लाया गया. जेएनयू छात्र संघ ने कहा, ‘‘कुलपति, एक कायर कुलपति हैं, जो पीछे के रास्ते से अवैध नीतियों को अंजाम देते हैं, छात्रों या शिक्षकों के सवालों से बचते हैं और फिर जेएनयू में खराब स्थिति उत्पन्न करते हैं.’’ Also Read - जब अनुच्छेद 370 हटाया गया तभी आवाज उठाई होती तो आज ये दिन नहीं देखने पड़ते: आइशी घोष

JNU Violence: छात्रों, शिक्षकों के साथ दिल्ली पुलिस ने की बैठक, चार मांगों को लेकर सौंपा आवेदन

जेएनयू में छात्र पिछले 70 दिन से छात्रवास की बढ़ी फीस के खिलाफ हड़ताल पर हैं. छात्र संघ ने आरोप लगाया, ‘‘ हिंसा कुलपति और उनके साथियों की निराशा का परिणाम है. लेकिन यह घटनाक्रम दिल्ली पुलिस के लिए शर्मनाक है, जिन्होंने एबीवीपी के बाहर से लाए गुंडों को अंदर पहुंचाया.’’ उसने कुलपति के तत्काल इस्तीफा देने या एचआरडी मंत्रालय से उनसे इस्तीफा लेने की मांग की.