नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में जेएनयू हिंसा के बाद से विरोध प्रदर्शन एक बार फिर जोर शोर से जारी है. देश के कई हिस्सों में लोग हादसे के बादसे लगातार सड़क पर उतरे हुए हैं. अपना विरोध दर्ज कराते माकपा नेता सीताराम येचुरी ने मंगलवार को कहा कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के कुलपति को हटाने की मांग करते हुए करीब 100 सांसद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखेंगे. वह विश्वविद्यालय के शिक्षक संघ और छात्र संघ द्वारा आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे. Also Read - Sukma-Bijapur Encouter Updates: नक्सली मुठभेड़ में 22 जवान शहीद, नक्सलियों ने लूट लिए जूता-चप्पल-हथियार

येचुरी ने कहा, “संसद के कई सदस्यों, करीब 100 से संपर्क किया गया है और उन्होंने राष्ट्रपति जो कि विश्वविद्यालय के विजिटर भी हैं, उन्हें पत्र लिखने का फैसला किया है जिसमें कुलपति को हटाने का अनुरोध किया जाएगा.” Also Read - Republic Day 2021: शान से लहराया 72वें गणतंत्र का तिरंगा, सैन्य ताकत के साथ दिखी राफेल की हुंकार

VIDEO: दीपिका पादुकोण पहुंचीं JNU, छात्रों का किया समर्थन, कन्हैया ने लगाए ये नारे Also Read - सौमित्र चटर्जी के निधन पर राष्ट्रपति कोविंद, पीएम मोदी ने जताया शोक, गृहमंत्री अमित शाह ने भी किया याद  

इसी बीच कुलपति एम जगदेश कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस किया. प्रेस कॉन्फ्रेंस कर उन्होंने कहा कि 5 जनवरी की शाम विश्वविद्यालय कैंपस में हुई घटना दुर्भाग्यपूर्ण हैं. हमारे कैंपस को सभी समस्याओं को चर्चा और बहस कर सुलझाने के लिए जाना जाता है. हिंसा समस्या का समाधान नहीं है. हम विश्वविद्यालय में हालात सामान्य बनाने को लेकर हर संभव प्रयास करेंगे.

JNU Violence: ओवैसी की मांग, जेएनयू के हमलावरों पर दर्ज हो हत्या के प्रयास का मुकदमा

बता दें कि जेएनयू हिंसा मामले की शुरुआत की वजह छात्रों को रजिस्ट्रेशन करने से रोकने को बताया जा रहा है. छात्र लगातार एक दूसरे पर आरोप लगाते रहे हैं. लेफ्ट समर्थक छात्रों पर आरोप लगाया गया कि उन्होंने कैंपस के उस कमरे को लॉक कर दिया जहां से इंटरनेट का संचालन होता है व रजिस्ट्रेशन किया जाना था. इसी मामले पर आगे प्रेस को संबोधित करते हुए जगदीश कुमार ने कहा कि रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को दोबारा चालू कर दिया गया है. अगले सेमेस्टर के लिए छात्र रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. जो हुआ सो हुआ आगे की सोचने और देखने की जरूरत है.