9 फरवरी को भारत की राजधानी दिल्ली के JNU में जो विवाद उठा वो अब थमने का नाम नही ले रहा है। आखिर मामला भी काफी सवेंदनशील जो है। विश्वविद्यालय की कैंपस में अचानक आतंकी अफज को शहीद का दर्जा और भारत के बर्बादी का नारा लगने लगा। मामला पलक झपकते ही जंगल में आग की तरह फैल गया। केंद्र सरकार से लेकर पूरा देश सकतें में आ गया की आखिर इन स्टूडेंट्स की मांग क्या है ऐसा क्यों कर रहें हैं। इस मामलें में दिल्ली पुलिस ने छात्रसंघ नेता कन्हैया की गिरफ्तार किया और जब उससे पूछताछ शुरू हुआ तो मास्टर माइंड कोई और निकला। Also Read - लॉकडाउन के चलते जेएनयू, यूजीसी नेट, पीएचडी, नीट, टीटीई समेत कई प्रवेश परीक्षाएं हुईं स्थगित

दिल्ली पुलिस को जांच में पता चला की देश विरोधी नारे के पीछे का असली मास्टरमाइंड उमर खालिद है। उमर खालिद ने इस पुरे घटना को अंजाम देने के लिए एक साजिश रचा था। दिल्ली पुलिस की रिपोर्ट के अनुसार और कन्हैया ने जो पुलिस के आगे कहा उसके मुताबिक कश्मीरी अलगाववादियों से जुड़े उमर खालिद ने जेएनयू कार्यक्रम की योजना तैयार की यही नही उससे घाटी से कई संदिग्ध मिलने भी आया करते थे। आप को जानकर हैरानी होगी की डेमोक्रेटिक स्टूडेंट यूनियन के बैनर तले खालिद ने ही उस दिन अफजल गुरु की बरसी पूरा प्लान बनाया था। यह भी पढ़ें : JNU विवाद : देश विरोधी नारे लगाने वाले उमर खालिद के घर पुलिस ने मारा छापा Also Read - मौलाना साद को गिरफ्तार नहीं करेगी दिल्ली पुलिस, सामने आए तो क्वारंटाइन में रखा जाएगा

अफजल खान की बरसी को सफल बानने के लिए कई राज्यों के कैंपस में उसके बैनर पोस्टर लगाया गया था। दिल्ली पुलिस की कई टीम लगातार उमर खालिद की तलाश में हैं और उसके घर पर भी छापा मारा गया था। सूत्रों की माने तो इस मामले को लेकर पुलिस किसी प्रकार की कोताही नही करना चाहती हैं। दिल्ली पुलिस ने अलग अलग कई अपनी टीमें बनाकर देश के कई राज्यों मे छापेमारी की जा रही है। लेकिन आप को बता दें पुलिस में मामला दर्ज होते ही उमर खालिद फरार हैं। Also Read - निजामुद्दीन मरकज को खाली कराने वाली टीम में शामिल रहे दिल्‍ली पुलिस के 7 जवान छुट्टी पर भेजे गए