राजधानी दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में दो महीना पहले अफ़ज़ल गुरु की बरसी पर कार्यक्रम का आयोजन करने वाले छात्र उमर खालिद के खिलाफ विश्वविद्यालय के प्रशासन ने कडा फैसला लिया है। जेएनयू प्रशासन ने उमर खालिद को एक सेमेस्टर के लिए निष्कासित कर दिया है। वहीँ कन्हैया कुमार पर 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। Also Read - Delhi Violence: न्यायधीश बोले- उमर खालिद, शरजील इमाम के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए पर्याप्त सामग्री

Also Read - Delhi Violence: उमर खालिद पर चलेगा UAPA के तहत केस, गृह मंत्रालय और दिल्ली सरकार की मिली मंजूरी

यह भी पढ़े: मेरा गला घोंटने की कोशिश की गई: कन्हैया Also Read - कोर्ट ने JNU के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को सांप्रदायिक हिंसा मामले में 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

कुछ दिनों पहले खबरे आई थी की जेएनयू प्रशासन उमर को  दो से पांच साल तक के लिए निष्कासित कर सकता है। अनिर्बान को 15 जुलाई तक निष्कासित किया गया है।

विश्वविद्यालय प्रशासन ने मामले की जांच के लिए एक पांच सदसीय समिति बनाई थी।समिति ने अपनी रिपोर्ट में कन्हैया सहित 21 छात्रों को दोषी माना था। यह रिपोर्ट अभी सार्वजनिक नहीं की गई है।

इसी मामले में पुलिस के अनुसार की माने तो खालिद व अनिर्बान नौ फरवरी को जेएनयू परिसर में विवादित कार्यक्रम के आयोजकों में थे, जहां राष्ट्रविरोधी नारे लगाए गए थे। पुलिस ने कहा कि कन्हैया कार्यक्रम का आयोजक नहीं था। उमर और अनिर्बान को राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। दिल्ली की एक अदालत ने दोनों को 25-25 हजार रुपये का निजी मुचलके पर दोनों को ज़मानत दी थी।