नई दिल्ली: जेएनयू छात्र संघ 12 दिसंबर से शुरू हो रहे सेमेस्टर परीक्षाओं कर बहिष्कार करने की योजना बना रहा है, वहीं जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय ने कहा है कि परीक्षा नहीं देने वाले यहां के छात्र नहीं रहेंगे. छात्र हॉस्टल की फीस में वृद्धि का विरोध कर रहे हैं.

विश्वविद्यालय ने एक आदेश जारी कर छात्रों को आगाह किया है कि वे अकादमिक अध्यादेश और नियमों के अनुसार सेमेस्टर की परीक्षा सहित अपने असाइनमेंट और टेस्ट पूरा करें. इसमें कहा गया है कि नियम के मुताबिक परीक्षा नहीं देने वाले यहां के छात्र नहीं रह जाएंगे.

बता दें कि जेएनयू प्रशासन द्वारा हॉस्टल की फीस प्रतिमाह 4200 रुपए किए जाने को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. छात्रसंघ का कहना है कि जेएनयू में 40 प्रतिशत ऐसे छात्र पढ़ने आते हैं जो गरीबी रेखा से नीचे आते हैं. ऐसे में वो अपनी पढ़ाई का खर्चा नहीं उठा सकते हैं. छात्रावास शुल्क वृद्धि के विरोध में कई दिनों से आंदोलन कर रहे छात्रों का कहना है कि पूरी बढ़ोतरी वापस लिए जाने तक उनका आंदोलन जारी रहेगा.