corona vaccine in India: एक-दूसरे पर कड़वी टिप्पणी करने के बाद सीरम इस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के अदार पूनावाला और भारत बायोटेक के कृष्णा एला ने एकजुटता दिखाते हुए उम्मीद जताई कि कोविड-19 टीकों का निर्माण और आपूर्ति दोनों कंपनी साथ साथ मिलकर करेंगे. Also Read - Corona Vaccination in India, Day 2: टीका लगाने की रफ्तार में भारत ने अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस सहित दुनिया को पीछे छोड़ा; 447 लोगों में दिखा रिएक्शन, तीन अस्पताल में भर्ती

एक संयुक्त बयान में कहा गया, “दोनों कंपनियां एक दूसरे द्वारा किए जा रहे महान कार्य का सम्मान करती हैं और पिछले सप्ताह हुई गलतफहमी को पीछे छोड़ती है. हम वैक्सीन के महत्व के बारे में पूरी तरह से जानते हैं. हम एक साथ मिल कर कोविड-19 टीकों को दूसरे देशों तक पहुंचाएंगे.” Also Read - केवल कोविशिल्ड ही नहीं, कोरोना के खिलाफ चार और वैक्सीन बना रहा है सीरम इंस्टीट्यूट, चल रहा है ट्रायल

इससे पहले भारत बायोटेक ने सोमवार को सीरम इंस्टीट्यूट पर परीक्षणों की गुणवत्ता पर सवाल उठाए थे. उन्होंने कहा, उनके सामने भारत और दुनिया के लोगों के जीवन और आजीविका को बचाना ही सबसे महत्वपूर्ण काम है. Also Read - कोलकाता: कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद बेहोश हुई 35 वर्षीय नर्स, जांच में लगाए गए विशेषज्ञ

एक दिन पहले सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के प्रमुख अदार पूनावाला ने कहा था कि भारत कई महीनों तक ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रानेका की कोरोना वायरस वैक्सीन के निर्यात की अनुमति नहीं देगा. हालांकि अब अपने बयान के एक दिन बाद कंपनी के सीईओ ने मंगलवार को स्पष्टीकरण जारी किया है.

पूनावाला ने ट्विटर पर कहा और कहा कि सभी देशों को टीकों के निर्यात की अनुमति दी जाएगी. साथ ही उन्होंने भारत बायोटेक के संबंध में किसी भी गलतफहमी को दूर करने के लिए एक संयुक्त सार्वजनिक बयान जारी किया है. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक ने मंगलवार को साझा बयान जारी किया है. अपने बयान में दोनों टीका निर्माता कंपनियों ने कहा है कि उनकी कोरोना वैक्सीन सभी देशों के लिए उपलब्ध है.

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक ने संयुक्त वक्तव्य में कहा, “हम लोगों और देशों के लिए टीकों के महत्व के बारे में पूरी तरह से अवगत हैं, हम अपने COVID-19 टीकों के लिए वैश्विक पहुंच प्रदान करने की लिए अपनी संयुक्त प्रतिज्ञा को फिर से दोहराते हैं.”

हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने ट्वीट कर लिखा, “सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक ने संयुक्त रूप से देश और दुनिया में सुगमतापूर्वक कोविड-19 टीके की आपूर्ति का संकल्प लिया है.”

उल्लेखनीय है कि भारत के औषधि नियामक ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड कोविड-19 टीके ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक के स्वदेश में विकसित टीके ‘कोवैक्सीन’ के सीमित आपात इस्तेमाल को रविवार को मंजूरी दे दी, जिससे व्यापक टीकाकरण अभियान का मार्ग प्रशस्त हो गया.

टीके सार्वजनिक स्वास्थ्य और आर्थिक गतिविधियों को जल्द से जल्द पटरी पर लाने के लिए जरूरी है. अब जब भारत में दो कोविड-19 टीकों को आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दी गई है, तो ऐसे में अब इनके विनिर्माण, आपूर्ति और वितरण पर ध्यान केंद्रित करने का समय आ गया है.

एक संयुक्त बयान में उन्होंने कहा, “हमारी दोनों कंपनियां इस गतिविधि में पूरी तरह से लगी हुई हैं और बड़े पैमाने पर टीके के रोलआउट को सुनिश्चित करने के लिए देश और दुनिया के लिए अपना कर्तव्य मानती है. हम कोविड-19 वैक्सीन को योजना के अनुसार लागू करने के लिए काम कर रहे हैं.”