कोलकाता: जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटाए जाने का विरोध करने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर बरसते हुए भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने शुक्रवार को दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस की सरकार का समय खत्म हो चुका है. अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर यहां एक सेमिनार में नड्डा ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी की देशभक्ति पर भी सवाल उठाए और कहा कि राहुल गांधी के बयानों का पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में भारत के खिलाफ उपयोग किया.

 

उन्होंने नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला, पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती और कांग्रेस के नेताओं पर यह झूठ फैलाकर देश को गुमराह करने का आरोप लगाया कि इस अनुच्छेद को निरस्त कर कश्मीर का विशेष दर्जा वापस ले लिया गया. उन्होंने कहा कि वे जान बूझकर देश को गुमराह कर रहे हैं. अनुच्छेद 370 ने कभी विशेष दर्जा नहीं दिया, बल्कि वह तो अस्थायी प्रावधान था. उन्होंने जम्मू कश्मीर में शांति बहाल करने और उसे विकास के पथ पर ले जाने में अहम भूमिका निभाने को लेकन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की भूमिका की सराहना की.

मोदी सरकार की प्रशंसा की
नड्डा ने कहा कि पाकिस्तान ने अनुच्छेद 370 के निरसन को अंतररराष्ट्रीय मुद्दा बनाने का प्रयास किया लेकिन सभी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर मुंह की खानी पड़ी. उन्होंने इस मुद्दे पर कूटनीतिक विजय को लेकर मोदी सरकार की प्रशंसा की. नड्डा ने कहा कि ममता तुष्टिकरण की राजनीति में इतनी अधिक व्यस्त हैं कि राष्ट्रीय हित उनके लिए पीछे छूट गया है. उन्होंने कहा कि दीवार पर लिखी इबारत साफ है. उनकी सरकार का समय समाप्त हो गया है. यह केवल समय की बात है कि भाजपा बंगाल में सत्ता में आएगी.

तृणमूल कांग्रेस पर बोला हमला
भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि क्या ममता बनर्जी के लिए राष्ट्रीय हित की तुलना में वोट बैंक, सत्ता और राजनीति (के लिए चिंता) अधिक अहम है ? उन्हें जवाब देना चाहिए कि उनकी पार्टी ने क्यों देश की एकजुटता के कदम का विरोध किया. जब देश मजबूत और एकजुट होगा, तभी आपकी राजनीति और सत्ता रह सकती है. उन्होंने कहा कि बंगाल के लोगों को अनुच्छेद 370 के निरसन का विरोध करने पर तृणमूल कांग्रेस से जवाब मांगना चाहिए.

राहुल गांधी की आलोचना की
राहुल गांधी की आलोचना करते हुए नड्डा ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बयानों को देखिए. पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में भारत का विरोध करने के लिए उनके बयानों का उपयोग किया. उन्होंने सवाल किया कि क्या यह राष्ट्रवाद है ? क्या यह देशभक्ति है ? उन्होंने कहा कि यह केवल भाजपा ही है जिसने जनसंघ के दिनों से ही कश्मीर से अनुच्छेद 370 को वापस लेने की मांग की थी. जनसंघ नेता श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने इसके लिए अपनी जान कुर्बान कर दी.