नई दिल्ली. न्यायमूर्ति गीता मित्तल ने शनिवार को जम्मू कश्मीर उच्च न्यायालय मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ लिया. वह राज्य के उच्च न्यायालय की अध्यक्षता करने वाली पहली महिला न्यायाधीश बन गई हैं. न्यायमूर्ति गीता मित्तल अब तक दिल्ली उच्च न्यायालय की कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश थीं.

बता दें कि राष्ट्रपति भवन की तरफ से जारी नोटिफिकेशन में लिखा गया था कि जम्मू कश्मीर के संविधान की धारा 95 के तहत मिले अधिकारों का प्रयोग करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कुमारी जस्टिस गीता मित्तल को जम्मू कश्मीर की मुख्य न्यायाद्यीश नियुक्त करते हैं. इसी के साथ राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने सिंधु शर्मा और राशिद अली डार को भी बेंच में नियुक्त किया है. सिंधु शर्मा जम्मू हाई कोर्ट में सालिस्टिर जनरल ऑफ इंडिया के तौर पर कार्य कर रहीं थीं. वह पहली महिला एडवोकेट हैं जिन्हें इतने महत्वपूर्ण पद नियुक्त किया गया है.

दिल्ली विश्वविद्यालय के कैंपस लॉ सेंटर से 1981 में लॉ की डिग्री ग्रहण कर चुकीं गीता मित्तल ने वर्ष 2004 में अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में कार्य शुरू किया था. इन्होंने अब तक के कार्यकाल में अनेक महत्वपूर्ण फैसले दिए हैं.