शिवपुरी: लोकसभा चुनाव हारने के बाद गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र पहुंचे कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने यहां सोमवार को कहा कि वह अब सांसद नहीं हैं, मगर जनसेवक के रूप में कार्य करते रहेंगे.” चुनाव नतीजों के बाद पहली बार अपने संसदीय क्षेत्र पहुंचे सिंधिया ने कार्यकर्ताओं की बैठक ली. Also Read - कोरोना के बीच CBSE कराएगा एग्जाम, प्रियंका गांधी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री से कहा- ये चौंकाने वाला फैसला, परीक्षाएं रद्द हों

Also Read - Assam Assembly Election 2021: चुनाव के नतीजों से पहले ही कांग्रेस और AIUDF ने अपने उम्मीदवारों को भेजा राजस्थान

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने संवाददाताओं के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने कहा, “जनादेश को स्वीकार करता हूं. मैं आज सांसद नहीं हूं, लेकिन जनसेवक के रूप में कार्य करता रहूंगा. चुनाव के दौरान जो कमियां रही हैं, उन्हें दूर करने के प्रयास होंगे. संगठन की मजबूती पर भी ध्यान दिया जाएगा.” Also Read - बंगाल को पहले कांग्रेस ने रौंदा, कम्युनिस्टों ने लूटा, अब TMC की गुंडागर्दी से बदहाल है: रैली में बोले CM योगी

महिला आयोग अध्यक्ष ने कहा- कठुआ केस के मुजरिमों को फांसी की सजा नहीं होने पर हुई निराशा

सिंधिया ने आगे कहा, “कोई भी पूरी तरह परफेक्ट नहीं होता है. हम समीक्षा कर रहे हैं, हमारी जो कमियां रही हैं, उन्हें दूर करने के प्रयास होंगे.” सिधिया ने काली माता रोड स्थित अपने जनसंपर्क कार्यालय में कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की. बैठक लगभग तीन घंटे चली. इस दौरान सिंधिया ने कांग्रेस के जिलाध्यक्ष, कार्यकारी अध्यक्ष, ब्लॉक अध्यक्ष, मंडलम अध्यक्ष व अन्य पदाधिकारियों से अलग-अलग बात की.

पीएम मोदी ने मंत्रालयों को दिए निर्देश, कहा- ऐसी योजनाएं बनाएं, जिससे आम लोगों की ज़िंदगी हो आसान

हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में सिंधिया को भाजपा उम्मीदवार के.पी. यादव के हाथों लगभग सवा लाख वोटों के अंतर से हार का सामना करना पड़ा. गुना संसदीय क्षेत्र सिंधिया राजघराने का गढ़ माना जाता रहा है. राजघराने के किसी सदस्य की यहां पहली बार हार हुई है.