नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के लिए गुरुवार को विधानसभा का वीआईपी गेट बंद रखने के मामले ने तूल पकड़ लिया. भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पश्चिम बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि राज्य में बाबा साहेब के संविधान की धज्जियां उड़ रहीं हैं और वहां ममता बनर्जी का अलिखित संविधान लागू हो गया है.

दरअसल, राज्यपाल धनखड़ ने पश्चिम बंगाल विधानसभा अध्यक्ष को बुधवार को ही पत्र लिखकर गुरुवार के दौरे की पूर्व सूचना दी थी. गुरुवार को जब वह विधानसभा के वीआईपी गेट नंबर तीन पर पहुंचे तो वह बंद मिला. बताया गया कि विधानसभा अध्यक्ष ने सदन को दो दिन के लिए स्थगित कर दिया है. काफी देर इंतजार के बाद भी जब गेट खोलने के लिए कोई नहीं आया तो मजबूरन उन्हें गेट नंबर चार से अंदर प्रवेश करना पड़ा. राज्यपाल ने इसे लोकतंत्र के लिए शर्मनाक दिन बताया.

इस घटना पर भाजपा अब पश्चिम बंगाल सरकार पर हमलावर हो उठी है. पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने दो ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने पहले ट्वीट में कहा, “विधानसभा संवैधानिक रूप से राज्यपाल के अधीन होती है. राज्यपाल जगदीप धनखड़ द्वारा लिखित रूप से सूचना देने के बाद कि वह पांच दिसंबर को विधानसभा आएंगे, विधानसभा का वीआईपी गेट उनके आगमन के बाद भी नहीं खोला गया. पूर्व सूचना के बावजूद कोई अधिकारी वहां मौजूद नहीं था.”

दूसरे ट्वीट में उन्होंने कहा, “राज्यपाल विधानसभा परिसर में पैदल ही घूमकर निकल गए. क्या इस घटना से यह नहीं लगता कि बंगाल में बाबा साहेब के बनाए (देश के) संविधान की धज्जियां उड़ रहीं हैं और बंगाल में ममता का अलिखित संविधान लागू हो गया है?”

(इनपुट-आईएएनएस)