मिसाइल मैन एपीजे अब्दुल कलाम के बंगले को लेकर एक नया विवाद अब खड़ा होने लगा है। 2007 से दिवंगत राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम इसी बंगले में रहा करता है। लेकिन इस बंगले को लेकर एक नया विवाद खड़ा हो गया है मामला दरसल कुछ ऐसा है की जिस बंगले में कभी एपीजे अब्दुल कलाम रहा करतें थे उसे अब टूरिज्म एंड कल्चर मिनिस्टर महेश शर्मा के नाम पर एलाट किया गया है। जिसका अब आम आदमी पार्टी विरोध कर रहा है।

एपीजे अब्दुल कलाम के निधन के बाद से बंगला खाली पड़ा था लेकिन इस एलाट होने की खबर पर आम आदमी पार्टी के नेता कपिल मिश्र ने इसका विरोध करना चालु कर दिया है।अब आम आदमी पार्टी की मांग है की अब्दुल कलाम के बंगले को नॉलेज सेंटर में बदलने और आम जनता के लिए खोला जाए। ताकि लोग उनके जीवन से जुडी बात को समझ सके। पूर्व राष्ट्रपति का यह बंगाल जो 10 राजाजी मार्ग के बंगले का टोटल एरिया 7 हजार 367 स्क्वॉयर मीटर है जिसमें 1,094 स्क्वॉयर मीटर में बंगला बना हुआ है।

टूरिज्म एंड कल्चर मिनिस्टर महेश शर्मा ने कहा है उन्हें बेहद ख़ुशी है की उन्हें रहने के लिए यह बंगला मिला है। जिसे लेकर वो काफी खुश हैं महेश शर्मा को 11 महीने बाद रहने के लिए बंगला मिला है। लेकिन अब इस बंगले पर उठे विवाद को लेकर उनका कहना है की सरकार का जो फैसला होगा उसको जरुर मानेगें। फ़िलहाल इस मामले पर अब आम आदमी पार्टी ने अपने विरोध की आवाज बुलंद कर दिया है।