नई दिल्ली: मक्कल नीधि माईम (MNM) प्रमुख कमल हासम ने हिंदी भाषा को लेकर एक विवादित बयान दिया है. कमल हासन ने तमिल और संस्कृत जैसी पुरानी भाषाओं की तुलना में हिंदी भाषा को ‘डायपर में छोटा बच्चा’ कहा. मंगलवार को चेन्नई के लोयोला कॉलेज (Loyola College) में ‘भाषाओं पर राजनीति’ पर एक स्टूडेंट के सवालों का जवाब देते हुए हसन ने कहा, ‘भाषाओं के परिवार में हिंदी सबसे छोटी भाषा है. यह डायपर में एक बच्चे की तरह है… इस भाषा की देखभाल भी करनी पड़ेगी क्योंकि यह परिवार का हिस्सा है. और हम जरूर इसकी देखभाल करेंगे… तमिल, संस्कृत और तेलुगू की तुलना में यह सबसे छोटी भाषा है.’

हिंदी न थोपें, पूरे भारत में एक ही भाषा संभव नहीं: रजनीकांत

अपने बयान पर सफाई देते हुए कमल हसन ने आगे कहा, हिंदी एक अच्छी भाषा है, लेकिन इसे थोपा नहीं जाना चाहिए.’ उन्होंने कहा, ‘मैं हिंदी का अपमान नहीं करता, लेकिन इसे जबरदस्ती हमारे गले मत उतारो.’ आपको बता दें कि भाषा को लेकर विवाद उस समय शुरू हुआ जब अमित शाह ने कहा था ‘एक देश, एक भाषा’.

अमित शाह के बयान पर पलटवार करते हुए उस समय कमल हसन ने कहा था कि कोई शाह, सुल्तान हम पर हिंदी भाषा को थोप नहीं सकता है. वहीं टॉलीवुड फिल्मों के सुपरस्टार रजनीकांत ने भी अमित शाह के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि कोई ङी दक्षिण राज्य हिंदी भाषा को नहीं अपनाएगा. उन्होंने कहा था कि हिंदी हो या कोई और भाषा उस जबरन किसी पर नहीं थोपा जाना चाहिए.