नई दिल्‍ली: मध्‍य प्रदेश में बीते एक हफ्ते से कमलनाथ सरकार पर बार-बार संकट छा रहे हैं. रविवार तक सरकार को समर्थन देने वाले 10 विधायक भी लापता हुए थे, जिनमें से आठ लौट आए थे. मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने सब कुछ ठीक करने का दावा किया था और सोमवार को दिल्‍ली में कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी से मुलाकात की है, लेकिन इस बीच एक बार फिर एक दर्जन से ज्‍यादा कांग्रेस के विधायकों के दिल्‍ली और बेंगलुरु में जाने की खबरें सामने आई हैं. Also Read - दिल्‍ली में Coronavirus संक्रमण के 20 हॉटस्‍पॉट सील, आना-जाना बैन, मास्‍क लगाना जरूरी

इस बार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक विधायकों और मंत्रियों ने दिल्ली में डेरा डाल लिया है. वहीं, एक खबर ये भी आई के की कुछ मंत्र‍ियों समेत कई विधायकों को बेंगलुरु ले जाया गया है और उन्‍हें ठहराने की व्‍यवस्‍था की जा रही है. Also Read - केंद्र सरकार पर कांग्रेस का आरोप, डर कर बदला दवा देने का फैसला, 1971 में इंदिरा गांधी ने दिया था करारा जवाब

बताया जा रहा है कि कमलनाथ मंत्रिमंडल के पांच मंत्रियों सहित 12-15 विधायक का पता नहीं चल रहा है और उनके फोन भी बंद हैं.  मंत्री के दफ्तर और स्टाफ को भी नहीं जानकारी. समर्थकों को भी कल शाम से नहीं मंत्री की जानकारी नहीं है. Also Read - Coronavirus: दिल्‍ली पुलिस ने लगाए शबे-ए-बारात के ऐसे पोस्‍टर, कहा- घरों से बाहर न आएं

सिंधिया समर्थक मंत्री और विधायक चाहते हैं कि उनके नेता सिंधिया को राज्यसभा का उम्मीदवार बनाया जाए और प्रदेशाध्यक्ष की भी कमान सौंपी जाए. इसी के मद्देनजर दबाव बनाने की रणनीति के तहत मंत्रियों और विधायकों ने दिल्ली में डेरा डाल रखा है. सूत्र के अनुसार, ये विधायक सोमवार सुबह ही दिल्ली पहुंचे हैं.

मुख्यमंत्री कमलनाथ रविवार से ही दिल्ली में हैं. उनकी सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात हुई और दोनों के बीच राज्य के ताजा घटनाक्रम पर चर्चा हुई है.

इन विधायकों से नहीं हो पा रहा संपर्क
गिर्राज दंडोतिया, कांग्रेस विधायक दिमनी (मुरैना)
कमलेश जाटव, कांग्रेस विधायक अम्बाह (मुरैना)
यशवंत जाटव, कांग्रेस विधायक, करैरा (शिवपुरी)
इमरती देवी, महिला एवं बाल विकास मंत्री (ग्वालियर)
प्रद्युम्न सिंह तोमर, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री (ग्वालियर)
गोविंद सिंह राजपूत, परिवहन मंत्री, विधायक सुरखी (सागर)
ओपीएस भदोरिया, कांग्रेस विधायक, मेहगाव (भिण्ड)
रघुराज सिंह कंसाना, कांग्रेस विधायक मुरैना

ये कांग्रेसी विधायक भी गायब हैं
जसपाल सिंह जग्गी, अशोक नगर विधायक
बृजेंद्र सिंह यादव, मुंगावली विधायक
श्रम मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया लापता

बीजेपी को लेकर कमलनाथ ने कहा, बीजेपी से अब रहा नहीं जा रहा है, उनका भ्रष्‍टाचार जो 15 सालों के दौरान किया गया है, अब वह खुलने वाला है, इसलिए वे हैरान-परेशान है.

राज्य की रिक्त हो रही तीन राज्यसभा सीटों के लिए 26 मार्च को चुनाव होना है और नामांकन भरे जाने की अंतिम तारीख 13 मार्च है. कांग्रेस के खाते में तीन में से दो सीटों के आने की संभावना है. इसी के चलते कांग्रेस में उम्मीदवारों के नामों को लेकर मंथन चल रहा है. राज्य से कांग्रेस की ओर से ज्योतिरादित्य सिंधिया और दिग्विजय सिंह को बड़ा दावेदार माना जा रहा है.