चेन्नईः राजनीति के मैदान में उतरने से पहले फिल्मस्टार कमल हासन सुपरस्टार रजनीकांत से मिले और उन्होंने कहा कि 21 फरवरी को अपनी पार्टी शुरू करने से पहले वह उन लोगों से मिल रहे हैं जिन्हें वह पसंद करते हैं. दोनों ही घोषणा कर चुके हैं कि वे राजनीति में उतरेंगे. उनके बड़ी संख्या में प्रशंसक हैं. Also Read - पंजाब, महाराष्ट्र के बाद तमिलनाडु ने 31 मई तक बढ़ाया लॉकडाउन, 25 जिलों में बस सेवा होगी बहाल

रजनीकांत ने कहा कि वह अपने दोस्त हासन के लिए दैवीय आशीर्वाद की प्रार्थना करते हैं और उनके राजनीतिक प्रयास में सफलता की कामना करते हैं. उन्होंने कहा कि सिनेमा में उनकी और हासन की भिन्न-भिन्न शैलियां है. यह इस बात का संकेत है कि राजनीति में भी उनके रास्ते अलग होंगे. Also Read - Coronavirus: तमिलनाडु के इन 4 बड़े शहरों में कल से Lockdown नहीं

कुछ दिन पहले हासन ने कहा था कि यदि रजनीकांत का रंग भगवा है तो उन दोनों के बीच गठबंधन की संभावना नहीं है. भगवा से हासन का तात्पर्य बीजेपी से है. रजनीकांत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अच्छे समीकरण हैं. रजनीकांत से यहां उनके पोएस गार्डन निवास पर मिलने के बाद हासन ने कहा कि वह बड़े पर्दे पर लोगों के चहेते से मिले क्योंकि वह उनसे मिल रहे हैं जो उन्हें (मुझे) पसंद हैं. हासन अबतक केरल और दिल्ली के मुख्यमंत्री क्रमश: पिनरायी विजयन और अरविंद केजरीवाल, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टी एन शेषण आदि से मिल चुके हैं.

अगर वह चुनाव हार जाते हैं तो फिर भी राजनीति करते रहेंगे, के सवाल पर कमल हासन ने कहा कि मुझे ईमानदारी से जीवन जीने के लिए कुछ करना होगा, लेकिन मैं नहीं समझता कि मैं हारने जा रहा हूं.’ इस विश्वास की वजह बताते हुए सुपरस्टार ने कहा, ‘मैं पिछले 37 सालों से समाजिक कार्यों से जुड़ा हूं और इन 37 सालों में उन्होंने करीब 10 लाख ईमानदार लोगों को अपने साथ जोड़ा है. वे मेरे साथ पिछले 37 सालों से हैं. मेरे निर्देश पर ये 10 ईमानदार लोग ज्यादा से ज्यादा युवाओं को अपने कल्याणकारी कामों से जोड़ रहे हैं.

पिछले साल 2017 के अंत में तमिलनाडु के सुपरस्टार रजनीकांत ने राजनीतिक पार्टी का गठन करने का ऐलान किया था. उन्होंने 2021 में होने वाले तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में सभी 234 सीटों पर चुनाव लड़ने का बात कही थी. सुपरस्टार ने भी कहा था कि सत्ता में आने के तीन सालों के अंदर यदि उनकी पार्टी अपने चुनावी वादों को पूरा नहीं कर पाती है तो वह पद से इस्तीफा दे देंगे.