हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या के मामले की जांच कर रही उप्र पुलिस ने गुजरात पुलिस के सहयोग से तीन लोगों को सूरत से हिरासत में लिया है और उनसे पूछताछ कर रही है. इस पूरे मामले पर खुद यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ अपनी नजर बनाए हुए हैं. योगी आदित्यनाथ ने कमलेश तिवारी हत्याकांड पर कहा है कि हत्या के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने ये भी कहा कि भय और दहशत का माहौल पैदा करने वालों के मंसूबों को कुचलकर रख दिया जाएगा.

बता दें कि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के घनी आबादी वाले नाका हिंडोला इलाके में शुक्रवार को हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े हत्या कर दी गयी. पुलिस के मुताबिक कमलेश तिवारी नाका हिंडोला कि खुर्शेदबाग स्थित अपने घर में खून से लथपथ पाए गए.

योगी आदित्यनाथ ने एएनआई से कहा कि विशेष जांच टीम मामले की जांच कर रही है और वह शनिवार शाम को खुद इस मामले की समीक्षा करेंगे. उन्होंने कहा, “पुलिस की पकड़ से बाहर आरोपियों को पकड़ने के लिए दबिश दी जा रही है और विशेष जांच टीम को मामले की जांच सौंपी गई है. शनिवार शाम को मैं पूरे मामले की समीक्षा करूंगा.” उन्होंने आगे कहा, “भय और दहशत पैदा करने वाले जो भी तत्व होंगे, सख्ती के साथ उनके मंसूबों को कुचल दिया जाएगा. जो भी इस घटना में सम्मिलित होगा, किसी को बख्शा नहीं जाएगा.”


गौरतलब है कि पुलिस महानिदेशक ओ पी सिंह ने शनिवार की सुबह संवाददाता सम्मेलन में बताया कि तिवारी के परिजनों द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी में उप्र के बिजनौर निवासी अनवारूल हक और नईम काजमी के नाम हैं तथा उन्हें भी हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. सिंह ने कहा कि सूचनाएं और सुराग मिलने के बाद शुक्रवार को ही छोटी-छोटी टीमें गठित की गई थी. जांच में इस मामले के तार गुजरात से जुड़े होने का संकेत मिला. उन्होंने बताया ‘‘मिठाई के डिब्बे के आधार पर उप्र पुलिस ने गुजरात पुलिस से संपर्क किया और फिर एक पुलिस टीम गुजरात गयी. मिठाई का डिब्बा सूरत जिले की जिस दुकान से लिया गया था, वहां आस-पास लगे सीसीटीवी के फुटेज की जांच से एक संदिग्ध फैजान यूनुस भाई की पहचान की गई. दोनों राज्यों की पुलिस के समन्वय से फैजान के साथ दो अन्य संदिग्धों मौलाना मोहसिन शेख एवं रशीद अहमद खुर्शीद अहमद पठान को भी हिरासत में लिया गया.’’