Kangana Ranaut files caveat in SC against BMC`s challeng to Bombay High Court order:  बॉलीवुड एक्‍ट्रेस कंगाना Kangana Ranaut ने बृहनमुंबई नगर निगम Brihanmumbai Municipal Corporation ( BMC) के खिलाफ सुप्रीम सुप्रीम (Supreme Court) में एक कैवियट (caveat), जिसमें बीएमसी ने बॉम्बे हाई कोर्ट के आदेश के उस आदेश को चुनौती दी है, जिसमें एक्‍ट्रेस Kangana Ranaut को राहत दी गई थी. Also Read - Mumbai Police ने जावेद अख्तर मानहानि केस में एक्‍ट्रेस कंगना रनौत को किया तलब

बता दें कि पिछले माह 27 नवंबर को बंबई उच्च न्यायालय ने बीएमसी के खिलाफ दायर कंगना की याचिका पर फैसला देते हुए कहा था बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) द्वारा कंगना रनौत के बंगले के एक हिस्से को ध्वस्त करने की कार्रवाई द्वेषपूर्ण कृत्य थी और ऐसा अभिनेत्री को नुकसान पहुंचाने के लिए किया गया था. Also Read - Aadhar Card Latest Update: आपका आधार कार्ड है सुरक्षित, Supreme Court ने खारिज की याचिका

हाईकोर्ट ने कंगना के बंगले पर हुई तोड़फोड़ का आंकलन करने के लिए एक एजेंसी की भी नियुक्ति भी करने का आदेश दिया था ताकि क्षतिपूर्ति के लिए रनौत के दावे पर निर्णय किया जा सके. न्यायमूर्ति एस जे काठवाला और न्यायमूर्ति आर आई चागला की पीठ ने कहा था कि नागरिक निकाय द्वारा की गई कार्रवाई अनधिकृत थी और इसमें कोई संदेह नहीं है.

बांम्‍बे हाईकोर्ट की बेंच ने रनौत द्वारा 9 सितंबर को उपनगरीय बांद्रा स्थित अपने पाली हिल बंगले में बीएमसी द्वारा की गई कार्रवाई के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया था.