जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रहे छात्र नजीब अहमत बीते कुछ दिनों से लापता है। छात्र नजीब अहमद को ढूंढने में प्रशासन का सुस्त रवैया बिना कुछ कहे ही किसी राजनैतिक दबाव को दर्शाता है।

इस मामले में प्रशासन की सुस्ती को लेकर जेएनयू के छात्र सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शन कर रहे छात्रों को अब जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्‍हैया कुमार का समर्थन मिला है। यह भी पढ़ें: JNU विवाद: “मुझे एक बार मेरे बच्चे का चेहरा दिखा दीजिए, मैं एक शब्द भी नहीं कहूंगी…पढ़ें ये खास खबर

देशद्रोह के आरोप में जेल जा चुके कन्‍हैया ने अपनी पुस्‍तक ‘फ्रॉम बिहार टू तिहाड़’ के विमोचन के मौके पर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘उनके पास तो इतनी खुफिया जानकारी थी कि उन्‍होंने जेएनयू में इस्‍तेमाल हुए कॉन्‍डोम की गिनती तक कर ली थी, लेकिन क्‍या वे अपने उस खुफिया तंत्र का इस्‍तेमाल ये पता लगाने में नहीं कर सकते कि इतने दिनों से लापता नजीब आखिर है कहां।

गौरतलब है कि जेएनयू विवाद के दौरान बीजेपी नेता ज्ञानदेव आहूजा ने फरवरी में विश्‍वविद्यालय में चल रहे प्रदर्शनों के दौरान एक बयान दिया था। यह भी पढ़ें: भाजपा विधायक ज्ञान देव आहूजा ने JNU मुद्दे पर दिया विवादित बयान

आहूजा ने अपने बयान में कहा था कि, ‘जेएनयू में रोजाना 3000 बीयर की केन, 2000 शराब की बोतलें, 10 हजार सिगरेट के टुकड़े, 4 हजार बीड़ी, 50 हजार हड्डियों के टुकड़े, 2 हजार चिप्स के पैकेट, 3 हजार उपयोग किए गए कंडोम और 500 गर्भपात के इंजेक्शन मिलते हैं।’

लापता छात्र नजीब को लेकर सरकार के गैरजिम्मेदाराना रवैये  के चलते जेएनयू के छात्रों में शासन-प्रशासन के खिलाफ काफी रोष देखा जा रहा है। गौरतलब है कि 14 अक्टूबर की रात बीजेपी से जुड़े एबीवीपी छात्र संगठन के कार्यकर्ताओं और नजीब के बीच कहा सुनी और विवाद हुआ था जिसके बाद से ही नजीब का कोई अता-पता नहीं है। हालांकि एबीवीपी इस मामले में किसी भी तरह की संलिप्‍तता से इनकार कर रही है। यह भी पढ़ें: JNU में फिर जंग, लापता छात्र नजीब अहमद की तलाश में छात्रो का आंदोलन VC को बनाया बंधक

गौरतलब है कि रविवार को इंडिया गेट पर प्रदर्शन कर रहे सैकड़ों छात्रों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया था। नजीब अहमद की मां के साथ भी बदसलूकी की गई और उन्हें घसीटते हुऐ हिरासत में लिया गया।