कानपुर. कानपुर पुलिस ने शहर के एक बडे़ भवन निर्माता के घर से 96 करोड़ रूपए से अधिक के पुराने नोट बरामद किए हैं. पुलिस ने भवन निर्माता समेत 16 लोगो को गिरफ्तार किया है. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अखिलेश कुमार मीना ने बताया कि बरामद की गयी पुरानी करेंसी में से 95 करोड. रूपये भवन निर्माता आनंद खत्री के थे जबकि एक करोड रूपये से अधिक के पुराने नोट एक दर्जन से अधिक अन्य लोगो के थे. Also Read - Updates: कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की मौत के बाद दूसरी मुठभेड़, मार गिराए दो अपराधी, हथियार बरामद

इन लोगों को भी भवन निर्माता के साथ गिरफ्तार किया गया है. नोटबंदी के बाद यह पुरानी करंसी की सबसे बड़ी बरामदगी है. सूत्रों ने बताया कि नोटों का बिस्तर बनाया गया था. मीणा ने बताया कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआईए को पुराने नोटो के इस कारोबार के बारे में जानकारी मिली थी जिसे उसने कानपुर के पुलिस महानिरीक्षक आईजी आलोक सिंह के साथ साझा की थी.

जहां बैठे थे प्रकाश राज, बीजेपी कार्यकर्ताओं ने गौमूत्र से धोया वो मंच!

जहां बैठे थे प्रकाश राज, बीजेपी कार्यकर्ताओं ने गौमूत्र से धोया वो मंच!

एनआईए से जानकारी मिलने के बाद आई जी कानपुर ने पुरानी करेंसी के कारोबार के बारे में एसएसपी कानपुर मीणा को बताया और उन्हें इन ठिकानों पर छापेमारी करने के निर्देश दिये. उन्होंने बताया कि पुलिस ने चार लोगो को स्वरूप नगर इलाके से गिरफ्तार किया. पहले इन लोगों ने पुलिस को बहकाने की कोशिश की लेकिन बाद में सख्ती से पूछताछ करने पर इन्होंने इस गिरोह के बारे में जानकारी दी.

पूछताछ में पता चला कि शहर का एक बड़ा भवन निर्माता पुरानी करेंसी को नये नोटो में बदलने के काले कारोबार में लगा है. इसके बाद पुलिस की टीम ने स्वरूप नगर के गोल चौराहा स्थित इस भवन निर्माता के घर पर छापा मारा तो वहां से पुराने नोटो का एक बड़ा जखीरा बरामद किया. एसपी पूर्वी अनुराग आर्य ने बताया कि इसके बाद पुलिस ने इस भवन निर्माता को गिरफ्तार किया. पुलिस ने शहर के तीन होटलों पर छापा मार कर वहां से 11 से अधिक लोगो को गिरफ्तार किया, इनमें एक प्रोफेसर संतोष यादव भी शामिल है.