नई दिल्ली. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री कपिल सिब्बल ने कठुआ और उन्नाव गैंगरेप के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा. सिब्बल ने इस मुद्दे पर सीधे पीएम से सवाल किया कि क्या आप ‘बेटियां छुपाओ’ या ‘बेटी बचाओ’ का संदेश दे रहे हैं? बता दें कि कठुआ में एक 8 साल की लड़की से गैंगरेप और फिर मर्डर मामले ने तुल पकड़ा है तो उन्नाव में बीजेपी के ही एक विधायक पर गैंगरेप का आरोप लगा है.Also Read - Parliament Winter Session: पीएम मोदी ने कहा- सरकार संसद में खुली चर्चा को तैयार, देश की तरक्की के लिए रास्ते खोजे जाएं

Also Read - Mann Ki Baat on Music Apps: अब अमेज़न म्यूजिक, विंक, हंगामा पर भी सुनें PM मोदी की Mann Ki Baat, ये है मकसद

क्या है कठुआ मामला
जिले के रसाना में दो समुदायों की लड़ाई में एक देवस्थान के केयरटेकर ने अपने बेटे, भतीजे और कुछ पुलिस वालों के साथ मिलकर 8 साल की लड़की का पहले अपहरण और फिर गैंगरेप को अंजाम दिया. इस मामले में पुलिस के अधिकारी भी शामिल हैं. लड़की को सात दिन तक देवस्थान पर ही रखा गया था और कई बार उसके साथ रेप किया गया. लड़की की छत-विक्षत लाश मिलने पर लोगों ने प्रदर्शन किया और सरकार पर दबाव बनाया. बाद में क्राइम ब्रांच को मामला दे दिया गया. Also Read - रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन 6 दिसंबर को भारत आएंगे, प्रधानमंत्री मोदी के साथ शिखर बैठक में करेंगे शिरकत

क्राइम ब्रांच की टीम ने मामले का खुलासा करते हुए 8 लोगों को गिरफ्तार किया. लेकिन कुछ क्षेत्रीय लोग, वकीलों का एक समुह और कुछ राजनैतिक लोग आरोपियों के साथ खड़े हो गए हैं. वे आरोपियों की गिरफ्तारी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं.

क्या है उन्नाव मामला
उन्नाव में एक लड़की ने बीजेपी विधायक पर गैंगरेप का आरोप लगाया है. मामले का और गंभीर तब हो गया जब ये आरोप लगा कि शिकायत करने थाने पहुंचे पीड़िता के पिता की पुलिस पिटाई से मौत हो गई. हालांकि, विधायक रेप से और पुलिस पिटाई से मौत से इनकार कर रही है.

मामला तूल पड़ता देख योगी सरकार ने पहले एसआईटी जांच के आदेश दिए. लेकिन वहां से भी चीजें स्पष्ट नहीं हुई तो सीबीआई जांच के आदेश दिए गए हैं. हालांकि, बीजेपी की एक प्रवक्ता सहित विपक्षी नेता इस पर योगी सरकार से सवाल कर रहे हैं. उनका कहना है कि विधायक अब भी क्यों नहीं सलाखों के पीछे है?