Kapil Sibal Targets Congress Leadership: बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी की बुरी हार के बाद वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने एक बार फिर पार्टी नेतृत्व की आलोचना की है. उन्होंने कहा है कि हाल के चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन को देखकर ऐसा लगता है कि जनता अब कांग्रेस को एक विकल्प के तौर पर नहीं देख रही है. इंडियन एक्सप्रेस अखबार को दिए एक इंटरव्यू में सिब्बल ने कहा कि अपनी राय जाहिर करने के लिए पार्टी में कोई फोरम नहीं है. ऐसे में मजबूर होकर मुझे अपनी राय सार्वजनिक तौर पर व्यक्त करनी पड़ रही है. उन्होंने कहा कि वह एक कांग्रेसी हैं और हमेशा एक कांग्रेसी रहेंगे. Also Read - राहुल गांधी का 'मन की बात' पर निशाना, कहा- पीएम मोदी किसानों की बात करते तो बेहतर होता

एक सवाल के जवाब में सिब्बल ने कहा कि बिहार ही नहीं देश के लोग आज निश्चिततौर पर कांग्रेस पार्टी को एक प्रभावी विकल्प के तौर नहीं देख रहे हैं. न केवल बिहार विधानसभा चुनाव बल्कि अन्य राज्यों में हुए उपचुनाव के नतीजों का एक लाइन में निष्कर्ष यही है. अंततः बिहार में विकल्प राजद है. हम गुजरात में सभी उपचुनाव हार गए. लोकसभा चुनाव में भी हम वहां से एक भी सीट नहीं जीत पाए थे. उत्तर प्रदेश की कुछ सीटों पर हुए उपचुनाव में पार्टी के उम्मीदवारों को दो फीसदी से भी कम वोट मिले. गुजरात में हमारे तीन उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई. इससे संदेश स्पष्ट है. पार्टी अब भी आत्म चिंतन नहीं कर रही है. Also Read - भाजपा-संघ की सोच के अनुसार दलितों-आदिवासियों नहीं मिलनी चाहिए शिक्षा: राहुल गांधी

उन्होंने कहा कि पिछले 6 साल में कांग्रेस पार्टी ने आत्मचिंतन नहीं किया है. ऐसे में आप क्या उम्मीद कर सकते हैं कि पार्टी अब आत्मचिंतन करेगी. हमें पता है कांग्रेस के साथ क्या दिक्कत है. संगठन के स्तर पर हमें पता है कि क्या गड़बड़ है. मैं मानता हूं हमारे पास सभी समस्याओं का समाधान है. कांग्रेस पार्टी को भी इनका समाधान पता है. लेकिन वह इसका समाधान निकालना नहीं चाहती. अगर वह समाधान नहीं निकालेगी तो यही रिजल्ट आएंगे. Also Read - किसान आंदोलन पर राहुल गांधी ने कहा- जब तक कृषि कानून वापस नहीं लिए जाते, तब तक जारी रहेगी लड़ाई