कारगिल की लड़ाई किस भारतवासी को याद नहीं होगी। यह एक ऐसा खंजर था जो पाकिस्तान ने भारत के पीठ पर मारा जरुर था मगर कामयाब नहीं हो पाया, क्यों की भारत की रक्षा करने के लिए हर पल उसके जवान सरहद पर मौजूद थे। बतादें की इस लड़ाई में भारत के हजारों जवानों ने अपने सीने पर गोलियां खाई थी और पाक के नापाक इरादों को मुहतोड़ जवाब देते हुए उसे नाकाम किया था। आज भारत में उन सभी जवानों की कुर्बानी को याद करते हुए देश भर में 17वां कारगिल विजय दिवस मनाया जा रहा है। बतादें की इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर शहीद जवानों को नमन किया है। वहीं द्रास के वॉर मेमोरियल समेत कई जगहों पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी जा रही है। Also Read - राहुल गांधी ने PM Modi को लिखा लेटर, कहा-देश में वैक्सीन की भारी कमी लेकिन विदेशों को टीका बांट रही सरकार

Also Read - निश्चिंत रहिए! अभी नहीं लगेगा Lockdown, PM मोदी ने क्यों कहीं हैं ये बातें, जानिए इसका मतलब...

  Also Read - मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में बोले पीएम मोदी, 'इस बार लोग बहुत लापरवाह हो गए हैं, सख्ती से निपटने की जरूरत'

 

बतादें की इस मौके पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, थलसेना प्रमुख दलबीर सिंह सुहाग, नौसेना प्रमुख सुनील लांबा और वायुसेना प्रमुख अरुप राहा ने इंडिया गेट स्थि‍त अमर जवान ज्योति पर जाकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। वहीं इस खास मौके पर इन सभी जवानों की क़ुरबानी को याद करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी यह ट्वीट किया है की ‘कारगिल विजय दिवस पर मैं उन वीर सैनिकों के आगे सिर झुकाता हूं, जिन्होंने अंतिम सांस तक भारत के लिए लड़ाई लड़ी। उनके वीर बलिदान हमें प्रेरित करते हैं।’ (यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मेरे अभिभावक की भूमिका निभाई)

 

 

इस खास मौके पर जवानों की कुर्बानी को याद करते हुए आर्मी चीफ जनरल दलबीर सिंह सुहाग ने यह कहा है की भारतीय सेना किसी भी संकट से सामना करने में सक्षम है। वहीं उन्होंने इस मौके पर बहुत से जवानों के परिवार से मुलाकात की और उनका हौसला बढाया। वहीं जवानों की याद में सोमवार को भी द्रास में बड़ी संख्या में लोगों ने कैंडल जलाकर उनकी कुर्बानी को नमन किया है।