करनाल में सचिवालय के बाहर अब भी किसानों का धरना प्रदर्शन जारी है. बीते कल महापंचायत के बाद सचिवालय के घेराव का फैसला लिया गया और किसानों द्वारा सचिवालय के बाहर अब तक धरना प्रदर्शन जारी है. किसानों पर लाठी चार्ज करने वाले प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने व घायलों को जिला प्रशासन द्वारा मुआवजा देने को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा है.Also Read - आंदोलन में जान गंवाने वाले 150 किसानों के परिजनों को नौकरी न दे पाने से दुखी हूं: अमरिंदर सिंह

जिला प्रशासन से बातचीत के विफल होने के बाद किसान सचिवालय के बाहर बैठ गए इशके बाद पुलिस बल और किसानों के बीच संघर्ष शुरू हो गया है. पुलिस ने भीड़ को तीतर बितर करने के लिए वाटर कैनन का इस्तेमाल किया. लेकिन किसान वहीं डंटे रहे. वहीं हरियाणा सरकार ने करनाल सहित 5 जिलों में इंटरनेट सेवा व एसएमएस सेवा को बंद कर दिया है. Also Read - किसानों के आंदोलन पर केंद्र और राज्य सरकारों को NHRC ने दिया नोटिस, ये है वजह

पुलिस बल की तैनाती Also Read - सीएम अमरिंदर की किसानों से अपील, 'पंजाब की जगह दिल्ली या हरियाणा की सीमाओं पर प्रदर्शन करें'

धरना स्थल पर किसान आंदोलन के नेता राकेश टिकैत, योगेंद्र यादव, गुरनाम सिंह चढूनी, बलबील सिंह राजेवाल, इत्यादि लोग मौजूद हैं. कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए सचिवालय के पास पुसिलकर्मियों व पैरामिलिट्री फोर्स के जवानों को तैनात किया गया है.